आरती श्री रामायण जी की

Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on whatsapp
IMG_8661

आरती श्री रामायण जी की
कीरति कलित ललित सिय-पी की
गावत ब्रह्मादिक मुनि नारद। बालमीक विज्ञान विशारद ।।
शुक सनकादि शेष अरु शारद। बरनि पवनसुत कीरति नीकी ।।
आरती ।
गावत वेद पुरान अष्टदस। छओं शास्त्र सब ग्रंथन को रस।।
मुनि-मन धन सन्तन को सरबस। सार अंश सम्मत सबही की।।।
आरती ।
गावत सन्तत शम्भु भवानी। अरु घट सम्भव मुनि विग्यानी।
व्यास आदि कविवर्ज बखानी। कागभुषुण्डि गरूड़ के ही की।।।
आरती ।
कलिमल हरनि विषय रस फीकी। सुभग सिंगार मुक्ति जुबती की।।
दलन रोग भव मूरी अमी की। तात मात सब विधि तुलसी की।।।
आरती ।

Sharing Is Karma

Share on facebook
Share
Share on twitter
Tweet
Share on linkedin
LinkedIn
Share on telegram
Telegram
Share on whatsapp
WhatsApp

More Aarti's

Collectionब्रह्मसंग्रह

!! भारतीय ज्ञान और परंपरा का एक प्रगतिशील संग्रहालय  !!

Articlesब्रह्मलेख