ॐ जय श्री रामादे स्वामी जय श्री रामादे।
पिता तुम्हारे अजमल मैया मेनादे ॥ ॐ जय
रूप मनोहर जिसका घोड़े असवारी।
कर में सोहे भाला मुक्तामणि धारी॥ ॐ जय
विष्णु रूप तुम स्वामी कलियुग अवतारी ।
सुरनर मुनिजन ध्यावे जावे बलिहारी॥ ॐ जय
दुःख दलजी का तुमने पल भर में टारा।
सरजीवन भाण को तुमने कर डारा॥ ॐ जय
नाव सेठ की तारी दानव को मारा।
पल में कीना तुमने सरवर को खारा ॥ ॐ जय

Sharing Is Karma

Share
Tweet
LinkedIn
Telegram
WhatsApp

More Aarti's

!! भारतीय ज्ञान और परंपरा का एक प्रगतिशील संग्रहालय  !!

Join Brahma

Learn Sanatan the way it is!