हिंगलाज माता आरती

Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on whatsapp
IMG_8776

ॐ जय हिंगलाज माता , मैया जय हिंगलाज माता…
जो नर तुमको ध्याता, वांछित फल पाता ।
ॐ जय हिंगलाज माता…

हीरा पन्ना मंडित, शीश मुकुट सोहे ।
भाल सिन्दुरी टीका, भक्तन मन मोहे ।।1।।
ॐ जय हिंगलाज माता…

कर्णफूल अति उज्जवल, झिलमिल सा चमके ।
गजमोतिन की माला, कण्डन पर दमके ।।2।।
ॐ जय हिंगलाज माता…

स्वर्ण मेखला कटि में, रत्नजड़ित लोभे ।
रक्तांबर मणि मण्डित, अगन पर शोभे ।।3।।
ॐ जय हिंगलाज माता…

हाथ त्रिशूल विराजे, चक्र खड़गधारी ।
घनुष बाण औ ज्वाला, धारे महतारी ।।4।।
ॐ जय हिंगलाज माता…

राजहंस तव वाहन, श्वेतासन राजे ।
सिंहासन वृषभासन, माता को साजे ।।5।।
ॐ जय हिंगलाज माता…

खड़े भीमलोचन है, भैरव तव हारे ।
शक्ति कोटरी तेरी, शक्ति पीठ तारे ।।6।।
ॐ जय हिंगलाज माता…

क्षेत्र हिंगला ज्याला ,मुख सा है तेरा ।
ब्रह्मरंध्र से प्रकटी, महातीर्थ तेरा ।।7।।
ॐ जय हिंगलाज माता…

क्षत्रिय कुल की रक्षक, सबकी है माता ।
नर-नारी ओर साधु, अभय सदा पाता ।।8।।
ॐ जय हिंगलाज माता…

कनक पात्र में शोभित, अगर कपूर बाती ।
आरती हम सब गावत, और तुम हो वरदात्री।।9।।
ॐ जय हिंगलाज माता…

माँ हिंगलाज की आरती, हम सब मिल गावें ।
तन मन धन सुख सम्पति, इच्छा फल पायें ।।10।।
ॐ जय हिंगलाज माता…

 

Sharing Is Karma

Share on facebook
Share
Share on twitter
Tweet
Share on linkedin
LinkedIn
Share on telegram
Telegram
Share on whatsapp
WhatsApp

More Aarti's

Collectionब्रह्मसंग्रह

!! भारतीय ज्ञान और परंपरा का एक प्रगतिशील संग्रहालय  !!

Articlesब्रह्मलेख