Mata Chintpurni Ji Ki Aarti

Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on whatsapp
IMG_8691

जै चिन्त्पुर्णी माता, चिन्ता हरो माता |
जीवन मेँ सुख दे दो, कश्ट हरो माता ||
ॐ जय चिन्त्पुर्णी माता…

ऊन्चा पर्वत तेरा, झ्न्डे झूल रहे |
करेँ आरती सारे, मन मेँ फूल रहे ||
ॐ जय चिन्त्पुर्णी माता…

सती के शुभ चरणोँ पर, मन्दिर है भारी |
छिन्न मस्तिका कह्ते, सारे सन्सारी ||
ॐ जय चिन्त्पुर्णी माता…

माईदास एक ब्राह्मण, स्वपन मेँ दरस दिये |
पूजा पिन्डी ध्यान कर, आनन्द भाव किये ||
ॐ जय चिन्त्पुर्णी माता…

बरगद पेड है दर पर, सुख भंडार भरे |
घन्टे घन घन बाजे, जय जय कार करेँ ||
ॐ जय चिन्त्पुर्णी माता…

कन्या गाती दर पे, मधुर स्वरोँ मेँ जब |
जिन्को सुन के, चिन्ता, मन की हटे माँ सब ||
ॐ जय चिन्त्पुर्णी माता…

पान सुपारी ध्वजा नारियल, छ्त्र चुन्नी संग मेँ|
चन्दन इत्र गुलाब जल, भेंट चढे अंग में ||
ॐ जय चिन्त्पुर्णी माता…

चिन्तित जीवन की माँ, तुम हो रख वाली |
सेवक आरती करता, कर मेँ लिये थाली ||
ॐ जय चिन्त्पुर्णी माता…

Sharing Is Karma

Share on facebook
Share
Share on twitter
Tweet
Share on linkedin
LinkedIn
Share on telegram
Telegram
Share on whatsapp
WhatsApp

More Aarti's

Collectionब्रह्मसंग्रह

!! भारतीय ज्ञान और परंपरा का एक प्रगतिशील संग्रहालय  !!

Articlesब्रह्मलेख