ॐ जय परशुधारी, स्वामी जय परशुधारी।
सुर नर मुनिजन सेवत, श्रीपति अवतारी॥ ॐ जय”
जमदग्नी सुत नर-सिंह, मां रेणुका जाया।
मार्तण्ड भृगु वंशज, त्रिभुवन यश छाया॥ ॐ जय”
कांधे सूत्र जनेऊ, गल रुद्राक्ष माला।
चरण खड़ाऊँ शोभे, तिलक त्रिपुण्ड भाला॥ ॐ
ताम्र श्याम घन केशा, शीश जटा
सुजन हेतु ऋतु मधुमय, दुष्ट दलन आंधी॥ ॐ
मुख रवि तेज विराजत, रक्त वर्ण
दीन-हीन गो विप्रन, रक्षक दिन रैना॥ ॐ
कर शोभित बर परशु, निगमागम
कंध चाप-शर वैष्णव, ब्राह्मण कुल त्राता॥ ॐ
माता पिता तम स्वामी, मीत सखा
‘मेरी बिरद संभारो, द्वार पड़ा मैं तेरे॥ ॐ
अजर-अमर श्री परशराम की, आरती जो
‘पूर्णेन्दु’ शिव साखि, सुख सम्पति पावे॥ ॐ

Sharing Is Karma

Share
Tweet
LinkedIn
Telegram
WhatsApp

More Aarti's

!! भारतीय ज्ञान और परंपरा का एक प्रगतिशील संग्रहालय  !!

Join Brahma

Learn Sanatan the way it is!