चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो

Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on whatsapp

चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो,
जय हो भोले नाथ जय हो शिव शम्भू

श्लोक
लिया नाम जिसने भी शिवजी का मन से,
उसे भोले शंकर ने अपना बनाया,
खुले उस पे सब द्वार शिव की दया के,
जो श्रद्धा से भोले के मंदिर में आया॥

हर हर महादेव की जय हो,
शंकर शिव कैलाशपति की जय हो।
चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो,
शिव जी के चरणों में सर को झुकाए,
करें अपने तन मन को गंगा सा पावन,
जपे नाम शिव का भजन इनके गाएं॥

हर हर महादेव की जय हो।
यह संसार झूठी माया का बंधन,
शिवालयमें मार्ग है मुक्ति का भक्तो,
महादेव का नाम लेने से हर दिन,
मिलेगा हमें दान शक्ति का भक्तो,
मिट्टी में मिट्टी की काया मिलेगी,
चलो आत्मा को तो कुंदन बनाएं,
चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो॥

कहीं भी नहीं अंत उस की दया का,
करें वंदना उस दयालु पिता की,
हमें भी मिले छावं उसकी कृपा की,
हमे भी मिले भीख उसकी दया की,
लगाकर समाधि करें शिव का सुमिरण,
यूँ सोये हुए भाग्य अपने जगाएं,
चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो॥

करें सब का कल्याण कल्याणकारी,
भरे सबके भण्डार त्रिनेत्र धारी,
कोई उसको जग में कमी ना रहेगी,
बनेगा जो तन-मन से शिव का पुजारी,
करे नाम लेकर सफल अपना जीवन,
यह अनमोल जीवन यूँ-ही ना गवांये,
चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो॥

चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो,
शिव जी के चरणों में सर को झुकाए,
करें अपने तन मन को गंगा सा पावन,
जपे नाम शिव का भजन इनके गाएं॥

Explore all Bhajan of Shiv

Comments

Sharing Is Karma

Share on facebook
Share
Share on twitter
Tweet
Share on linkedin
LinkedIn
Share on telegram
Telegram
Share on whatsapp
WhatsApp

Bhajanब्रह्मभजन

अबिगत गति कछु कहति न आवै।

तुम्हारी भक्ति हमारे प्रान

IMG_8760

बात क्या कहूं नागरनटकी

IMG_8666

मुझे चरनो से लगा ले

अबिगत गति कछु कहति न आवै।

वृच्छन से मत ले

सोभित कर नवनीत लिए

तिहारो दरस मोहे भावे श्री यमुना जी

IMG_8663

जग में सुन्दर है दो नाम

IMG_8760

मैं तो तेरे भजन भरोसे अबिनासी

अबिगत गति कछु कहति न आवै।

जो पै हरिहिं न शस्त्र गहाऊं

सोभित कर नवनीत लिए

नारी दूरत बयाना रतनारे

अबिगत गति कछु कहति न आवै।

वा पटपीत की फहरानि

अबिगत गति कछु कहति न आवै।

हम भगतनि के भगत हमारे

Shlokब्रह्मश्लोक

Collectionब्रह्मसंग्रह

!! भारतीय ज्ञान और परंपरा का एक प्रगतिशील संग्रहालय  !!

Articlesब्रह्मलेख