जौं आजु हरिहिं न अस्त्र गहाऊँ
तौं लाजौं गंगा जननी को, शांतनु सुत न कहाऊँ.
स्यंदन खंडी महारथि खंड्यो, कपिध्वज सहित गिराऊँ
पांडव दल सन्मुख होय धाऊँ, सरिता रुधिर बहाऊँ
जौं न करौं शपथ प्रभु पद की, क्षत्रिय गति नहिं पाऊँ
सूरदास रणभूमि विजय बिनु, जियत न पीठ दिखाऊँ.

Comments
Sharing Is Karma
Share
Tweet
LinkedIn
Telegram
WhatsApp

जौं आजु हरिहिं न अस्त्र गहाऊँ

जौं आजु हरिहिं न अस्त्र गहाऊँ तौं लाजौं गंगा जननी को, शांतनु सुत न कहाऊँ. स्यंदन खंडी महारथि खंड्यो, कपिध्वज सहित गिराऊँ पांडव दल सन्मुख होय धाऊँ, सरिता रुधिर बहाऊँ जौं न करौं शपथ प्रभु पद की, क्षत्रिय गति नहिं पाऊँ सूरदास रणभूमि विजय बिनु, जियत न पीठ दिखाऊँ.

@beLikeBrahma

Join Brahma

Learn Sanatan the way it is!