तेरे दर का मैं बनके सवाली

Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on whatsapp

तेरे दर का मैं बनके सवाली, मैया जी तेरे दवार आ गया,
मेरी अर्ज सुनो माँ झंडेवाली, मैया जी तेरे दवार आ गया।

तेरे मंदिरों की मैया शोभा नयारी,
दर पे जो आया कभी दीन भिखारी,
गया दर से कभी न कोई खाली,
मैया जी तेरे दवार आ गया…..।

तेरे पुजारियों को मिले तेरा प्यार माँ,
रहमतो के खोल दे, अब तो भण्डार माँ,
तूने पल में ही झोली भर डाली,
मैया जी तेरे दवार आ गया…..।

चंचल ने नीरज को रस्ता ये बता दिया,
झंडेवाली मैया का पता समजा दिया,
तेरे घर आएगी खुशहाली,
मैया जी तेरे द्वार आ गया…..।

Comments

Sharing Is Karma

Share on facebook
Share
Share on twitter
Tweet
Share on linkedin
LinkedIn
Share on telegram
Telegram
Share on whatsapp
WhatsApp

Aarti

Articlesब्रह्मलेख