पलना स्याम झुलावत जननी ।
अति अनुराग पुरस्सर गावति, प्रफुलित मगन होति नंद घरनी ॥१॥
उमंगि उमंगि प्रभु भुजा पसारत, हरषि जसोमति अंकम भरनी ।
सूरदास प्रभु मुदित जसोदा, पूरन भई पुरातन करनी ॥२॥

Comments
Sharing Is Karma
Share
Tweet
LinkedIn
Telegram
WhatsApp

पलना स्याम झुलावत जननी

पलना स्याम झुलावत जननी । अति अनुराग पुरस्सर गावति, प्रफुलित मगन होति नंद घरनी ॥१॥ उमंगि उमंगि प्रभु भुजा पसारत, हरषि जसोमति अंकम भरनी । सूरदास प्रभु मुदित जसोदा, पूरन भई पुरातन करनी ॥२॥

@beLikeBrahma

Join Brahma

Learn Sanatan the way it is!