मन की मन ही माँझ रही.
कहिए जाइ कौन पै ऊधौ, नाहीं परत कही.
अवधि असार आस आवन की,तन मन विथा सही.
अब इन जोग सँदेसनि सुनि-सुनि,विरहिनि विरह दही.
चाहति हुती गुहारि जितहिं तैं, उर तैं धार बही .
‘सूरदास’अब धीर धरहिं क्यौं,मरजादा न लही.

Comments
Sharing Is Karma
Share
Tweet
LinkedIn
Telegram
WhatsApp

मन की मन ही माँझ रही

मन की मन ही माँझ रही. कहिए जाइ कौन पै ऊधौ, नाहीं परत कही. अवधि असार आस आवन की,तन मन विथा सही. अब इन जोग सँदेसनि सुनि-सुनि,विरहिनि विरह दही. चाहति हुती गुहारि जितहिं तैं, उर तैं धार बही . ‘सूरदास’अब धीर धरहिं क्यौं,मरजादा न लही.

@beLikeBrahma

Join Brahma

Learn Sanatan the way it is!