मन शिव में ऐसे रमा है।

Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on whatsapp

मन शिव में ऐसे रमा है।
ये भूल गए हम कहा है,
सारा जग शिव मय दिखता है,
अम्बर शिव धरती उमा है,
मन शिव में ऐसे रमा है॥

जब ध्यान में आते है शिव जी,
मुझे अद्भुत शांति मिलती है,
में दिखला नही सकता जग को,
जो मन में ज्योति जलती है,
जब भूल कोई हो जाती है,
शिव करते मुझको क्षमा है,
सारा जग शिव मय दिखता है,
अम्बर शिव धरती उमा है,
मन शिव मे ऐसे रमा है॥

शिव भक्ति का आनदं मधुर,
कोई वर्णन कर ना पाते है,
ये वो ही जाने भक्त यहाँ,
जो शंम्भूमय हो जाते है,
जैसी मूरत मन में दिखती है,
उसकी ना कोई उपमा है,
सारा जग शिव मय दिखता है,
अम्बर शिव धरती उमा है,
मन शिव मे ऐसे रमा है॥

शिव की महानता अति उदार,
जो पूजे वो पा जाते है,
जिस पे हो शिव शम्भू की कृपा,
वो प्राणी अम्र पद पाते है,
भक्तो के हेतु बन बैठे शिव,
पाषाण की एक प्रतिमा है,
सारा जग शिव मय दिखता है,
अम्बर शिव धरती उमा है,
मन शिव में ऐसे रमा है॥

Shiva Shankar Stotra
Explore all Bhajan of Shiv

Comments

Sharing Is Karma

Share on facebook
Share
Share on twitter
Tweet
Share on linkedin
LinkedIn
Share on telegram
Telegram
Share on whatsapp
WhatsApp

Bhajanब्रह्मभजन

Shiva Shankar Stotra

सुबह सुबह ले शिव का नाम

IMG_8667

ॐ जय श्री राधा जय श्री कृष्ण

IMG_8760

मोहन गिरवरधारी को म्हारो प्रणाम

उधो, मन न भए दस बीस

चरन कमल बंदौ हरि राई

अबिगत गति कछु कहति न आवै।

मैया मोहिं दाऊ बहुत खिझायो

उधो, मन न भए दस बीस

चोरी मोरी गेंदया

उधो, मन न भए दस बीस

मेरो मन अनत कहां सुख पावै

सोभित कर नवनीत लिए

जनम सब बातनमें बित गयोरे

अबिगत गति कछु कहति न आवै।

नेक चलो नंदरानी

अबिगत गति कछु कहति न आवै।

वृच्छन से मत ले

सोभित कर नवनीत लिए

अंखियां हरि–दरसन की प्यासी

Shlokब्रह्मश्लोक

Collectionब्रह्मसंग्रह

!! भारतीय ज्ञान और परंपरा का एक प्रगतिशील संग्रहालय  !!

Articlesब्रह्मलेख