मेरा जीवन धन हनुमान शरणों थारो लियो

Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on whatsapp

टेर : मेरा जीवन धन हनुमान शरणों थारो लियो।
मैं टाबर हूँ अनजान शरणों थारो लियो।।

आफत मेरी टाळ्या सरसी तेरे बिन कुण पीड़ा हरसी,
दुविधा में हे ज्यान शरणों थारो लियो।
मेरा जीवन धन……

तेरे बल का पार नहीं है तुझ बिन कोई आधार नहीं है,
मान मान शरणों थारो लियो।
मेरा जीवन धन……

द्वार दया का बेगा खोलो बजरंगी मुखड़े से बोलो,
जाने न पाए शान शरणों थारो लियो।
मेरा जीवन धन……

कोटि कोटि चरणों में वंदन शंकर सुवन केसरी नंदन,
मेरा तन मन प्राण शरणों थारो लियो।
मेरा जीवन धन……

सियाराम के काज सँवारे में भी आन पड़ा तेरे द्वारे,
देणो पड़सी ध्यान शरणों थारो लियो।
मेरा जीवन धन……

अर्जी या थानै कर दीन्हीं थे चरणों में धार दीन्हीं,
सुन लीजो हनुमान शरणों थारो लियो।
मेरा जीवन धन……

राम मंदिर का बजरंग बाला खोल मेरी तक़दीर का ताला,
करूं धर्म पुण्य दान शरणों थारो लियो।
मेरा जीवन धन हनुमान……

Comments

Sharing Is Karma

Share on facebook
Share
Share on twitter
Tweet
Share on linkedin
LinkedIn
Share on telegram
Telegram
Share on whatsapp
WhatsApp

Aarti

Articlesब्रह्मलेख