रे मन शिव का सुमिरण कर

Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on whatsapp

रे मन शिव का सुमिरण कर,
शिव से आदि शिव से अंत है,
शिव ही अजर अमर,
रे मन शिव का सुमिरण कर॥

सत्य सजीव सनातन सुन्दर,
शिव ही सकल सुजान,
शिव ही नाद अबाद अगोचर,
शिव ही ताले सवर,
रे मन शिव का सुमिरण कर,
रे मन शिव का सुमिरण कर॥

शिव ही दृश्य नैन है शिव ही,
शिव महेश नटराज,
शिव पाताल मध्य में शिव है,
शिव है सदैव शिखर,
रे मन शिव का सुमिरन कर,
रे मन शिव का सुमिरण कर॥

शिव शक्ति सर्वोच्च सरल शिव,
शिव ही जग का सार,
शिव के बिना शेष बस शव है,
शिव ना कभी बिसर,
रे मन शिव का सुमिरन कर,
रे मन शिव का सुमिरण कर॥

रे मन शिव का सुमिरण कर,
शिव से आदि शिव से अंत है,
शिव ही अजर अमर,
रे मन शिव का सुमिरण कर॥

Explore all Bhajan of Shiv

Comments

Sharing Is Karma

Share on facebook
Share
Share on twitter
Tweet
Share on linkedin
LinkedIn
Share on telegram
Telegram
Share on whatsapp
WhatsApp

Bhajanब्रह्मभजन

सोभित कर नवनीत लिए

सोभित कर नवनीत लिए

IMG_8663

मुझे अपनी शरण में ले लो

अबिगत गति कछु कहति न आवै।

श्री यमुने पति दास के चिन्ह न्यारे

अबिगत गति कछु कहति न आवै।

राखी बांधत जसोदा मैया

उधो, मन न भए दस बीस

काहू जोगीकी नजर लागी है मेरो कुंवर

उधो, मन न भए दस बीस

नाम महिमा ऐसी जु जानो

IMG_8764

बागनमों नंदलाल चलोरी

सोभित कर नवनीत लिए

देखो माई ये बडभागी मोर

अबिगत गति कछु कहति न आवै।

मैया! मैं नहिं माखन खायो

IMG_8761

तोती मैना राधे कृष्ण बोल

IMG_8764

जमुनाजीको तीर दधी बेचन जावूं

Shlokब्रह्मश्लोक

Collectionब्रह्मसंग्रह

!! भारतीय ज्ञान और परंपरा का एक प्रगतिशील संग्रहालय  !!

Articlesब्रह्मलेख