शुभ दीपावली
Happy Deepawali
இனிய தீபாவளி
ਦਿਵਾਲੀ ਦੀਆਂ ਮੁਬਾਰਕਾਂ
दिवाळीच्या हार्दिक शुभेच्छा
દિવાળીની શુભકામના
ದೀಪಾವಳಿಯ ಶುಭಾಶಯಗಳು
ଶୁଭ ଦିୱାଲୀ
దీపావళి శుభాకాంక్షలు
ദീപാവലി ആശംസകൾ
শুভ দীপাবলি

from Brahma

Deepawali Wish Greetings Digital Fireworks
Touch anywhere to see the magic.

Enter Your Name

Support English characters only*

& share with the world

दीपावली क्या है?

दीपावली का त्योहार हिन्दू, जैन, बौद्ध और‍ सिख धर्म का सम्मलित त्योहार है। संपूर्ण भारत वर्ष में इसे मनाया जाता है। खुशियों को बढ़ाने और जीवन से दुखों के अंधकार को मिटाने का यह त्योहार दुनिया का सबसे अच्छा और सुंदर त्योहार माना जाता है। इस त्योहार को ईसा पूर्व 3300 वर्ष पूर्व से लगातार मनाया जाता रहा है। सिंधु घाटी की सभ्यता के लोग भी इस त्योहार को मनाते थे।
इस दिन जहां भगवान राम श्रीलंका से लौटकर अयोध्या आए थे वहीं बौद्ध धर्म के प्रवर्तक गौतम बुद्ध जब 17 वर्ष बाद अनुयायियों के साथ अपने गृह नगर कपिल वस्तु लौटे तो उनके स्वागत में लाखों दीप जलाकर दीपावली मनाई थी। साथ ही महात्मा बुद्ध ने ‘अप्पों दीपो भव’ का उपदेश देकर दीपावली को नया आयाम प्रदान किया था।

दूसरी ओर जैन धर्म के चौबीसवें तीर्थंकर भगवान महावीर ने दीपावली के दिन ही बिहार के पावापुरी में अपना शरीर त्याग दिया था। कल्पसूत्र में कहा गया है कि महावीर-निर्वाण के साथ जो अन्तर्ज्योति सदा के लिए बुझ गई है, आओ हम उसकी क्षतिपूर्ति के लिए बहिर्ज्योति के प्रतीक दीप जलाएं।

तीसरी ओर सिख धर्म में इस पर्व को प्रकाशपर्व के रूप में इसलिए मनाया जाता है क्योंकि अमृतसर में 1577 में स्वर्ण मन्दिर का शिलान्यास हुआ था। और, इसके अलावा 1618 में दीवाली के दिन सिक्खों के छठे गुरु हरगोबिन्द सिंह जी को बादशाह जहांगीर की कैद से जेल से रिहा किया गया था।

हिन्दू सहित उक्त तीनों ही धर्मों में दीपावली का त्योहार बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। इस दिन वे भी घरों की सफाई एवं रंगरोगन कर चारों ओर दीपक जलाकर, रंगोली बनाकर और नए कपड़े पहनकर उत्सव मनाते हैं। इस दिन स्वादिष्ठ पकवान और मिठाईयां बनाई जाती है।

ईसा पूर्व चौथी शताब्दी में रचित कौटिल्‍य के अर्थशास्त्र के अनुसार आमजन कार्तिक अमावस्या के अवसर पर मंदिरों और घाटों पर बड़े पैमाने पर दीप जलाकर दीपदान महोत्सव मनाते थे। साथ ही मशालें लेकर नाचते थे और पशुओं खासकर भैंसों और सांडो की सवारी निकालते थे। मौर्य राजवंश के सबसे चक्रवर्ती सम्राट अशोक ने दिग्विजय का अभियान इसी दिन प्रारम्भ किया था। इसी खुशी में दीपदान किया गया था।