अबकी दिवाली

परिवर्तन सनातन समृद्धि स्वदेशी सुरक्षा संस्कारो सभ्यता सहभागिता विश्वास प्रगति एकात्मकता विविधता वाली

Festival of brighter change coming in
Days
Hours
Minutes
Seconds

This Deepawali join the global campaign to #StrengthenDharma. Powered by Brah.ma.

Sankalps for you to take this Diwali!

The world is changing fast, this Deepawali let’s change our fortune. if every one of us takes their Sankalp’s seriously, this Deepawali will create history for future generations.

Participate in contests to win exciting prizes!

Design the best rangoli to invite Maa Laxmi on the auspicious occasion of Diwali. Seek her blessing in this wonderful...

Send challange to your friends/ family

Design the best rangoli to invite Maa Laxmi on the auspicious occasion of Diwali. Seek her blessing in this wonderful...

Send challange to your friends/ family

Design the best rangoli to invite Maa Laxmi on the auspitious occasion of Diwali. Seek her blessing in this wonderful...

Send challange to your friends/ family

Design the best rangoli to invite Maa Laxmi on the auspitious occasion of Diwali. Seek her blessing in this wonderful...

Send challange to your friends/ family

Design the best rangoli to invite Maa Laxmi on the auspitious occasion of Diwali. Seek her blessing in this wonderful...

Send challange to your friends/ family

Design the best rangoli to invite Maa Laxmi on the auspitious occasion of Diwali. Seek her blessing in this wonderful…

Send challange to your friends/ family

The Contests will run on Fb, Instagram, Twitter & Youtube. You can also email your entries at iam@brah.ma or whatsapp at +91-72108-51108.

Diwali Mantra's to recite!

Om Asato Maa Sad-Gamaya | Tamaso Maa Jyotir-Gamaya |
Mrtyor-Maa Amrtam Gamaya | Om Shaantih Shaantih Shaantih ||

Adhyay 1.3
Shloka 28
हे प्रभु! मुझे असत्य से सत्य की ओर । मुझे अन्धकार से प्रकाश की ओर । और मुझे मृत्यु से अमरता की ओर ले चलो॥ ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥
O Lord! Lead me from ignorance to truth, Lead me from darkness to light, Lead me from death to deathlessness, Aum peace, peace, peace.
ஏய் ஆண்டவரே! அறியாமையிலிருந்து சத்தியத்திற்கு எங்களை வழிநடத்துங்கள், இருளில் இருந்து வெளிச்சத்திற்கு எங்களை இட்டுச் செல்லுங்கள், மரணத்திலிருந்து அழியாத நிலைக்கு இட்டுச் செல்லுங்கள். ॐ அமைதி, அமைதி, அமைதி.
ਹੇ ਸੁਆਮੀ, ਸਾਨੂੰ ਅਗਿਆਨਤਾ ਤੋਂ ਸੱਚ ਵੱਲ ਲੈ ਜਾਵੋ, ਹਨੇਰੇ ਤੋਂ ਚਾਨਣ ਵੱਲ ਲੈ ਜਾਵੋ, ਮੌਤ ਤੋਂ ਸਾਨੂੰ ਅਮਰਤਾ ਵੱਲ ਲੈ ਜਾਵੋ, ॐ ਸ਼ਾਂਤੀ, ਸ਼ਾਂਤੀ, ਸ਼ਾਂਤੀ
ହେ ପ୍ରଭୁ, ଆମକୁ ଅଜ୍ଞତାରୁ ସତ୍ୟକୁ ନେଇଯାଅ, ଅନ୍ଧକାରରୁ ଆଲୋକକୁ ନେଇଯାଅ, ମୃତ୍ୟୁରୁ ଅମରତାକୁ, ॐ ଶାନ୍ତି, ଶାନ୍ତି, ଶାନ୍ତି |
ಓ ಸ್ವಾಮಿ, ನಮ್ಮನ್ನು ಅಜ್ಞಾನದಿಂದ ಸತ್ಯಕ್ಕೆ ಕರೆದೊಯ್ಯಿರಿ, ನಮ್ಮನ್ನು ಕತ್ತಲೆಯಿಂದ ಬೆಳಕಿಗೆ ಕರೆದೊಯ್ಯಿರಿ, ಸಾವಿನಿಂದ ಅಮರತ್ವಕ್ಕೆ ನಮ್ಮನ್ನು ಕರೆದೊಯ್ಯಿರಿ, ॐ ಶಾಂತಿ, ಶಾಂತಿ, ಶಾಂತಿ.
הו, אדון, הוביל אותנו מבורות לאמת, הוביל אותנו מחושך לאור, הוביל אותנו ממוות לאלמוות, ॐ שלום, שלום, שלום.

Collectionब्रह्मसंग्रह

!! भारतीय ज्ञान और परंपरा का एक प्रगतिशील संग्रहालय  !!

Diwali Articles to read!

• 2 weeks ago
~ Vipra Vashishtha Diwali is nearing and it’s the time when people get out of their homes or go online...
• 2 weeks ago
~ Vipra Vashishtha Diwali or Deepawali is the greatest of the festivals celebrated throughout the Indian subcontinent and its various...
• 2 weeks ago
“PLANT A MEMORY, PLANT A TREE, DO IT TODAY FOR TOMORROW” Nothing compares to the joy and grandeur of Diwali...
• 2 weeks ago
~ Saniya Mishra The light within us was created to illuminate not only our own lives, but the entire planet....
• 2 weeks ago
Diwali is a season of happiness, joy and fun. People meet each other; take blessings from elders. That’s why it...
• 2 weeks ago
What are your plans for this coming Diwali? Will your coming Diwali be ECO-PATAKE wali? Diwali is the most anticipated...
Brahma Patrika

Subscribe to
BrahmaPatrika

Don't check Emails? Join us on...

Namaste Vanakkam Sat Srī Akāl Namaskārām Khurumjari Parnām Tashi Delek Khurumjari 

Join The Change
Resend OTP (00:30)
OR

Search

Create your Personlised Link

*Support English characters only

share with the world

दीपावली क्या है?

दीपावली का त्योहार हिन्दू, जैन, बौद्ध और‍ सिख धर्म का सम्मलित त्योहार है। संपूर्ण भारत वर्ष में इसे मनाया जाता है। खुशियों को बढ़ाने और जीवन से दुखों के अंधकार को मिटाने का यह त्योहार दुनिया का सबसे अच्छा और सुंदर त्योहार माना जाता है। इस त्योहार को ईसा पूर्व 3300 वर्ष पूर्व से लगातार मनाया जाता रहा है। सिंधु घाटी की सभ्यता के लोग भी इस त्योहार को मनाते थे।
इस दिन जहां भगवान राम श्रीलंका से लौटकर अयोध्या आए थे वहीं बौद्ध धर्म के प्रवर्तक गौतम बुद्ध जब 17 वर्ष बाद अनुयायियों के साथ अपने गृह नगर कपिल वस्तु लौटे तो उनके स्वागत में लाखों दीप जलाकर दीपावली मनाई थी। साथ ही महात्मा बुद्ध ने ‘अप्पों दीपो भव’ का उपदेश देकर दीपावली को नया आयाम प्रदान किया था।

दूसरी ओर जैन धर्म के चौबीसवें तीर्थंकर भगवान महावीर ने दीपावली के दिन ही बिहार के पावापुरी में अपना शरीर त्याग दिया था। कल्पसूत्र में कहा गया है कि महावीर-निर्वाण के साथ जो अन्तर्ज्योति सदा के लिए बुझ गई है, आओ हम उसकी क्षतिपूर्ति के लिए बहिर्ज्योति के प्रतीक दीप जलाएं।

तीसरी ओर सिख धर्म में इस पर्व को प्रकाशपर्व के रूप में इसलिए मनाया जाता है क्योंकि अमृतसर में 1577 में स्वर्ण मन्दिर का शिलान्यास हुआ था। और, इसके अलावा 1618 में दीवाली के दिन सिक्खों के छठे गुरु हरगोबिन्द सिंह जी को बादशाह जहांगीर की कैद से जेल से रिहा किया गया था।

हिन्दू सहित उक्त तीनों ही धर्मों में दीपावली का त्योहार बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। इस दिन वे भी घरों की सफाई एवं रंगरोगन कर चारों ओर दीपक जलाकर, रंगोली बनाकर और नए कपड़े पहनकर उत्सव मनाते हैं। इस दिन स्वादिष्ठ पकवान और मिठाईयां बनाई जाती है।

ईसा पूर्व चौथी शताब्दी में रचित कौटिल्‍य के अर्थशास्त्र के अनुसार आमजन कार्तिक अमावस्या के अवसर पर मंदिरों और घाटों पर बड़े पैमाने पर दीप जलाकर दीपदान महोत्सव मनाते थे। साथ ही मशालें लेकर नाचते थे और पशुओं खासकर भैंसों और सांडो की सवारी निकालते थे। मौर्य राजवंश के सबसे चक्रवर्ती सम्राट अशोक ने दिग्विजय का अभियान इसी दिन प्रारम्भ किया था। इसी खुशी में दीपदान किया गया था।