0
0
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on whatsapp

क्या हर्ज़ है अगर अब
विदा ले लें हम
एक सपने से

जो तुमने भी देखा था
और मैंने भी
दोनों के सपने में

कोई भी फ़र्क
नहीं था ऐसा तो
नहीं कहूँगा

फ़र्क था
मगर तफ़सील -भर का
मूलतः

सपना एक ही था
शुरू हुआ था वह
एक ही समय
एक ही जगह
एक ही कारण से
मगर उसे देखा था
दो आमने – सामने खड़े
व्यक्तियों ने

इसलिए
एक ने ज्यादातर भाग
इस तरफ़ का देखा
दुसरे ने उस तरफ का
एक ने देखा

जिस पर डूबते सूरज की
किरणें पर रहीं थीं
ऐसा एक
निहायत ख़ूबसूरत
चेहरा
लगभग
असंभव रूप से सही और
सुन्दर नाक घनी भौहें
पतले ओंठ
घनी और बिखरी
केश राशि
सरो जैसा क़द
और आखें
मदभरी न कहो
मद भरने वाली तो
कह ही सकते हैं
और
दूसरों ने देखा

डूबते सूरज की तरफ़
पीठ थी जिसकी
ऐसा एक व्याक्ति
लगभग बंधा हुआ- सा
अपने ही रूप की डोर से
सपने
लम्बे लगते हैं मगर वे
सचमुच लम्बे नहीं होते
हमारे लम्बे लगने वाले

सपने में
बड़ी- बड़ी घटनाएँ हुईं
डूबे बहे उतराये

हम सुख – दुख में
और फिर जब
सपना टूट गया
तो हमने
आदमी की तमाम जिदों की तरह
इस बात की जिद की

कि सपना हम देखते रहेंगे
मगर बहुत दिनों से
सोच रहा हूँ मैं
और अब
पूछ रहा हूँ तुमसे

क्या हर्ज़ है अगर अब
विदा ले लें हम उस सपने से
जो हमने सच पूछो तो

थोड़ी देर एक साथ देखा
और जाग जाने पर भी
जिसे बरसों से

पूरी ज़िद के साथ
पकड़े हैं बल्कि
पकड़े रहने का बहाना किये हैं!

Share the Goodness
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on telegram
Telegram
Share on whatsapp
WhatsApp
Choose from all-time favroits Poets

माखनलाल चतुर्वेदी

भवानीप्रसाद मिश्र

दुष्यंत कुमार

रामधारी सिंह दिनकर

हरिवंशराय बच्चन

महादेवी वर्मा

सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला"

सुभद्राकुमारी चौहान

मैथिलीशरण गुप्त

Atal Bihari Vajpayee

जानकीवल्लभ शास्त्री

सुमित्रानंदन पंत

Collectionब्रह्मसंग्रह

!! भारतीय ज्ञान और परंपरा का एक प्रगतिशील संग्रहालय  !!