1
0
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on whatsapp

सीखो नित नूतन ज्ञान,नई परिभाषाएं,
जब आग लगे,गहरी समाधि में रम जाओ;
या सिर के बल हो खडे परिक्रमा में घूमो।
ढब और कौन हैं चतुर बुद्धि-बाजीगर के?

गांधी को उल्‍टा घिसो और जो धूल झरे,
उसके प्रलेप से अपनी कुण्‍ठा के मुख पर,
ऐसी नक्‍काशी गढो कि जो देखे, बोले,
आखिर , बापू भी और बात क्‍या कहते थे?

डगमगा रहे हों पांव लोग जब हंसते हों,
मत चिढो,ध्‍यान मत दो इन छोटी बातों पर
कल्‍पना जगदगुरु की हो जिसके सिर पर,
वह भला कहां तक ठोस कदम धर सकता है?

औ; गिर भी जो तुम गये किसी गहराई में,
तब भी तो इतनी बात शेष रह जाएगी
यह पतन नहीं, है एक देश पाताल गया,
प्‍यासी धरती के लिए अमृतघट लाने को।

 

sīkho nit nūtan jñān,nai paribhāṣhaye,
jab āag lage,gaharī samādhi me ram jāo;
yā sir ke bal ho khaḍe parikram me ghūmo |
ḍhab aur kaun hai chatur buddhi-bājīgar ke?

gāndhī ko ul‍ṭā ghiso aur jo dhūl jhare,
uske pralep se apanī kuṇ‍ṭhā ke mukh par,
aisī nak‍kāśhī gaḍho ki jo dekhe, bole,
aākhir , bāpū bhī aur bāta k‍yā kahate the?

ḍagmag rahe ho pāav log jab haste ho,
mat chiḍho,dh‍yān mat do inn choṭī baāto par
kal‍panā jagdaguru kī ho jiske sir par,
vaha bhalā kahā tak ṭhos kadam dhar sakatā hai?

au; gir bhī jo tum gaye kisī gahrāī me,
tab bhī to itnī bāat śesh raha jāegī
yaha patan nahī, hai ek deśh pātāl gayā,
p‍yāsī dharatī ke liye amṛitghaṭ lāne ko |

Share the Goodness
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on telegram
Telegram
Share on whatsapp
WhatsApp
Choose from all-time favroits Poets

माखनलाल चतुर्वेदी

भवानीप्रसाद मिश्र

दुष्यंत कुमार

रामधारी सिंह दिनकर

हरिवंशराय बच्चन

महादेवी वर्मा

सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला"

सुभद्राकुमारी चौहान

मैथिलीशरण गुप्त

Atal Bihari Vajpayee

जानकीवल्लभ शास्त्री

सुमित्रानंदन पंत

Collectionब्रह्मसंग्रह

!! भारतीय ज्ञान और परंपरा का एक प्रगतिशील संग्रहालय  !!