मक़सद नहीं

ज़िंदगानी का कोई मक़सद नहीं है

एक भी क़द आज आदमक़द नहीं है

राम जाने किस जगह होंगे क़बूतर

इस इमारत में कोई गुम्बद नहीं है

आपसे मिल कर हमें अक्सर लगा है

हुस्न में अब जज़्बा—ए—अमज़द नहीं है

पेड़—पौधे हैं बहुत बौने तुम्हारे

रास्तों में एक भी बरगद नहीं है

मैकदे का रास्ता अब भी खुला है

सिर्फ़ आमद—रफ़्त ही ज़ायद नहीं

इस चमन को देख कर किसने कहा था

एक पंछी भी यहाँ शायद नहीं है.

 

 

jindagani ka koi makasad nahī hain

eka bhī kad aaj āadamakad nahī hain

ram jane kis jagaha honge kabutara

iss imarat main koi gumbad nahī hain

aapse mil kar hamain aksar laga hain

husna main ab jajaba—e—amajad nahī hain

ped—paudhe hain bahut baune tumhare

raston main ek bhi baragad nahī hain

maikade ka rasta ab bhi khula hain

sirph aamad—rapha​t hi jaayad nahī

is caman ko dekh kar kisane kaha tha

ek panchi bhi yaha shayad nahi hain.

 

 

no purpose for life

Not a single stature is life sized today

Ram knows where will the pigeons be

There is no dome in this building

We have often felt like meeting you

There is no longer Jazba-e-Amjad in beauty

Your plants are very dwarf

There is not a single banyan in the paths

McDay’s way is still open

Not just revenue

who said seeing this chaman

There is probably not even a bird here.

Share the Goodness
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on telegram
Telegram
Share on whatsapp
WhatsApp
Choose from all-time favroits Poets

माखनलाल चतुर्वेदी

भवानीप्रसाद मिश्र

दुष्यंत कुमार

रामधारी सिंह दिनकर

हरिवंशराय बच्चन

महादेवी वर्मा

सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला"

सुभद्राकुमारी चौहान

मैथिलीशरण गुप्त

Atal Bihari Vajpayee

जानकीवल्लभ शास्त्री

सुमित्रानंदन पंत

Collectionब्रह्मसंग्रह

!! भारतीय ज्ञान और परंपरा का एक प्रगतिशील संग्रहालय  !!