माँ—लल्ला, तू बाहर जा न कहीं,
तू खेल यहीं, रमना न कहीं।
बेटा—क्यों माँ?
माँ—डायन लख पाएगी,
लाड़ले! नजर लग जाएगी।
बेटा—अम्मा, ये नभ के तारे हैं,
किस माँ के राज-दुलारे हैं?
अम्मा, ये खड़े उघारे हैं,
देखो ये कितने प्यारे हैं,
क्यों इन्हें न इनकी माँ ढकती?
क्या इनको नजर नहीं लगती?
माँ—बेटा, डायन है क्रूर बहुत,
लेकिन तारे हैं दूर बहुत,
उन तक जाने में थक जाती,
यों उनको नजर न लग पाती,
बेटा—माता ये माला के मोती,
जगमग होती जिनकी जोती,
क्या नजरें इनसे डरती हैं,
जो इनपर नहीं उतरती हैं?
माँ—हाँ, जब ये नन्हें थे जल में,
गहरी लहरों के आँचल में,
तब नज़र न लगा सकी डुबकी,
छाया भी छू न सकी उनकी।
बेटा—अम्मा, ये फूल सलोने से,
हरियाली माँ के छौने से,
क्यों बेली इन्हें नहीं ढकती?
क्या इनको नज़र नहीं लगती?
माँ—नजरों के पैर फिसल जाएँ,
फूलों पर नहीं ठहर पाएँ।
बेटा—ना, ना, माँ, मैं क्यों हारूँगा,
माँ, मैं किससे क्यों हारूँगा?
मैं दृढ़ हूँ, तन-मन वारूँगा,
मैं हँस-हँसकर किलकारूँगा,
नजरों की नजर उतारूँगा।

Share the Goodness
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on telegram
Telegram
Share on whatsapp
WhatsApp
Choose from all-time favroits Poets

माखनलाल चतुर्वेदी

भवानीप्रसाद मिश्र

दुष्यंत कुमार

रामधारी सिंह दिनकर

हरिवंशराय बच्चन

महादेवी वर्मा

सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला"

सुभद्राकुमारी चौहान

मैथिलीशरण गुप्त

Atal Bihari Vajpayee

जानकीवल्लभ शास्त्री

सुमित्रानंदन पंत

Collectionब्रह्मसंग्रह

!! भारतीय ज्ञान और परंपरा का एक प्रगतिशील संग्रहालय  !!