प्रात तव द्वार पर,
आया, जननि, नैश अन्ध पथ पार कर ।

लगे जो उपल पद, हुए उत्पल ज्ञात,
कंटक चुभे जागरण बने अवदात,
स्मृति में रहा पार करता हुआ रात,
अवसन्न भी हूँ प्रसन्न मैं प्राप्तवर–
प्रात तव द्वार पर ।

समझा क्या वे सकेंगे भीरु मलिन-मन,
निशाचर तेजहत रहे जो वन्य जन,
धन्य जीवन कहाँ, –मातः, प्रभात-धन
प्राप्ति को बढ़ें जो गहें तव पद अमर–
प्रात तव द्वार पर ।

Share the Goodness
Facebook
Twitter
LinkedIn
Telegram
WhatsApp
Choose from all-time favroits Poets

Join Brahma

Learn Sanatan the way it is!