ये सच है कि पाँवों ने बहुत कष्ट उठाए

पर पाँवों किसी तरह से राहों पे तो आए

हाथों में अंगारों को लिए सोच रहा था

कोई मुझे अंगारों की तासीर बताए

जैसे किसी बच्चे को खिलोने न मिले हों

फिरता हूँ कई यादों को सीने से लगाए

चट्टानों से पाँवों को बचा कर नहीं चलते

सहमे हुए पाँवों से लिपट जाते हैं साए

यों पहले भी अपना—सा यहाँ कुछ तो नहीं था

अब और नज़ारे हमें लगते हैं पराए.

 

ye sach hai ki paanvon ne bahut kasht uthae

par paanvon kisee tarah se raahon pe to aae

haathon mein angaaron ko lie soch raha tha koee

mujhe angaaron kee taaseer batae

jaise kisee bachche ko khilone na mile hon

phirata hoon kaee yaadon ko seene se lagae

chattaanon se paanvon ko bacha kar

nahin chalate sahame hue paanvon se lipat jaate hain

sae yon pahale bhee apana—sa yahaan kuchh to

nahin tha ab aur nazaare hamen lagate hain parae

 

It’s true that the feet took a lot of pain

But the feet somehow came on the way

thinking of coals in hand

Somebody tell me the effect of coals

like no child has got toys

I walk around with many memories on my chest

Don’t walk by shielding your feet from rocks

The shadows cling to the scared feet

Like this before too there was nothing like myself here

Now more views seem to us alien.

Share the Goodness
Facebook
Twitter
LinkedIn
Telegram
WhatsApp
Choose from all-time favroits Poets

माखनलाल चतुर्वेदी

भवानीप्रसाद मिश्र

दुष्यंत कुमार

रामधारी सिंह दिनकर

हरिवंशराय बच्चन

महादेवी वर्मा

सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला"

सुभद्राकुमारी चौहान

मैथिलीशरण गुप्त

Atal Bihari Vajpayee

जानकीवल्लभ शास्त्री

सुमित्रानंदन पंत

Collectionब्रह्मसंग्रह

!! भारतीय ज्ञान और परंपरा का एक प्रगतिशील संग्रहालय  !!

Namaste Vanakkam Sat Srī Akāl Namaskārām Khurumjari Parnām Tashi Delek Khurumjari 

Join The Change

Search