रात को बारह का गजर

रोज़ जब रात को बारह का गजर होता है
यातनाओं के अँधेरे में सफ़र होता है

कोई रहने की जगह है मेरे सपनों के लिए
वो घरौंदा ही सही, मिट्टी का भी घर होता है

सिर से सीने में कभी पेट से पाओं में कभी
इक जगह हो तो कहें दर्द इधर होता है

ऐसा लगता है कि उड़कर भी कहाँ पहुँचेंगे
हाथ में जब कोई टूटा हुआ पर होता है

सैर के वास्ते सड़कों पे निकल आते थे
अब तो आकाश से पथराव का डर होता है

 

roj jab raat ko baraha ka gajar hota hain
yaatanaaon ke andhere main safar hota hain

koi rehene ki jagaha hain mere sapanoo ke lie
vo gharaounda hi sahi, miṭṭi ka bhi ghar hota hain

sir se sine main kabhi peat se paaon main kabhi
ik jagaha ho to kahain dard idhar hota hain

aisa lagata hain ki udkar bhi kaha pahuchainge
hāath main jab koi ṭuta hua par hota hain

sair ke vaaste sadkoon pe nikal ate the
ab to aakash se patharaav ka ḍar hota hain

 

Every day when it is twelve in the night
Journey through the darkness of torture

There is no place to live for my dreams
That house is right, it is also a house of soil.

From head to chest sometimes from stomach to legs
If there is one place, say that the pain is here

It seems that where will you reach even by flying
in hand when someone is on the broken

used to come out on the streets for a walk
Now there is a fear of stone pelting from the sky

Share the Goodness
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on telegram
Telegram
Share on whatsapp
WhatsApp
Choose from all-time favroits Poets

माखनलाल चतुर्वेदी

भवानीप्रसाद मिश्र

दुष्यंत कुमार

रामधारी सिंह दिनकर

हरिवंशराय बच्चन

महादेवी वर्मा

सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला"

सुभद्राकुमारी चौहान

मैथिलीशरण गुप्त

Atal Bihari Vajpayee

जानकीवल्लभ शास्त्री

सुमित्रानंदन पंत

Collectionब्रह्मसंग्रह

!! भारतीय ज्ञान और परंपरा का एक प्रगतिशील संग्रहालय  !!