0
0
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on whatsapp

सूरज का गोला,

इसके पहले ही कि निकलता,

चुपके से बोला,हमसे – तुमसे इससे – उससे

कितनी चीजों से,

चिडियों से पत्तों से ,

फूलो – फल से, बीजों से-

” मेरे साथ – साथ सब निकलो

घने अंधेरे से

कब जागोगे,अगर न जागे , मेरे टेरे से ?”

आगे बढकर आसमान ने

अपना पट खोला ,

इसके पहले ही कि निकलता

सूरज का गोला .

फिर तो जाने कितनी बातें हुईं,

कौन गिन सके इतनी बातें हुईं ,

पंछी चहके कलियां चटकीं ,

डाल – डाल चमगादड लटकीं

गांव – गली में शोर मच गया ,

जंगल – जंगल मोर नच गया .

जितनी फैली खुशियां ,

उससे किरनें ज्यादा फैलीं,

ज्यादा रंग घोला .

और उभर कर ऊपर आया

सूरज का गोला ,

सबने उसकी आगवानी में

अपना पर खोला .

Share the Goodness
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on telegram
Telegram
Share on whatsapp
WhatsApp
Choose from all-time favroits Poets

माखनलाल चतुर्वेदी

भवानीप्रसाद मिश्र

दुष्यंत कुमार

रामधारी सिंह दिनकर

हरिवंशराय बच्चन

महादेवी वर्मा

सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला"

सुभद्राकुमारी चौहान

मैथिलीशरण गुप्त

Atal Bihari Vajpayee

जानकीवल्लभ शास्त्री

सुमित्रानंदन पंत

Collectionब्रह्मसंग्रह

!! भारतीय ज्ञान और परंपरा का एक प्रगतिशील संग्रहालय  !!