क्‍या कंकड़-पत्‍थर चुन लाऊँ?

यौवन के उजड़े प्रदेश के,
इस उर के ध्‍वंसावशेष के,
भग्‍न शिला-खंडों से क्‍या मैं फिर आशा की भीत उठाऊँ?
क्‍या कंकड़-पत्‍थर चुन लाऊँ?

स्‍वप्‍नों के इस रंगमहल में,
हँसूँ निशा की चहल पहल में?
या इस खंडहर की समाधि‍ पर बैठ रुदन को गीत बनाऊँ?
क्‍या कंकड़-पत्‍थर चुन लाऊँ?

इसमें करुण स्‍मृतियाँ सोईं,
इसमें मेरी निधियाँ सोईं,
इसका नाम-निशान मिटाऊँ या मैं इस पर दीप जलाऊँ?
क्‍या कंकड़-पत्‍थर चुन लाऊँ?

Share the Goodness
Facebook
Twitter
LinkedIn
Telegram
WhatsApp
Choose from all-time favroits Poets

Join Brahma

Learn Sanatan the way it is!