0
0
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on whatsapp

तुम ठहरे, पर समय न ठहरा,
विधि की अंगुलियों की रचना, तोड़ चला यह गूंगा, बहरा।
घनश्याम के रूप पधारे हौले-हौले, धीरे-धीरे,
मन में भर आई कालिन्दी झरती बहती गहरे-गहरे।
तुम बोले, तुम खीझे रीझे, तुम दीखे अनदीखे भाये,
आँखें झपक-झपक अनुरागीं, लगा कि जैसे तुम कब आये?
स्वर की धारा से लिपटी जब गगन-गामिनी शशि की धारा,
उलझ गया मैं उन बोलों में, मैंने तुझको नहीं सँवारा।
चन्दन, चरण, आरती, पूजा,
कुछ भी हाय न कर पाया मैं,
तुम किरणों पर बैठ चल दिये,
किरणों में ही भरमाया मैं!
पा कर खो देने का मन पर कितना लिखा विस्मरण गहरा!
विधि की अंगुलियों की रचना, तोड़ चला यह गूंगा बहरा।
तुम ठहरे, पर समय न ठहरा,

Share the Goodness
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on telegram
Telegram
Share on whatsapp
WhatsApp
Choose from all-time favroits Poets

माखनलाल चतुर्वेदी

भवानीप्रसाद मिश्र

दुष्यंत कुमार

रामधारी सिंह दिनकर

हरिवंशराय बच्चन

महादेवी वर्मा

सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला"

सुभद्राकुमारी चौहान

मैथिलीशरण गुप्त

Atal Bihari Vajpayee

जानकीवल्लभ शास्त्री

सुमित्रानंदन पंत

Collectionब्रह्मसंग्रह

!! भारतीय ज्ञान और परंपरा का एक प्रगतिशील संग्रहालय  !!