भारत के आदमी का जीवन ” मैं, मेरी बीबी, मेरा बच्चा ….बस्स !!!”

जैसा बाप, वैसे ही लकीर के फ़कीर बेटे भी !!

— बेटे —

माँ-बाप के दुलारे बेटे !
युगों-युगों से हारे बेटे !!
अहंकार की दौड़ दौड़ते
संसार के भार दबे से
जहां चलाया, वहीँ चल दिए
मुहरे जैसे कोई पिटे से

भीतर अन्धकार भरा पर ,
जग के आज सितारे बेटे
युगों-युगों से हारे बेटे !!

जो भी सिखाया, सीख लिया वह
जहां चलाया, वहीं चले
घर की या दुनिया की पकड़ी
ख़ुद की राह नहीं चले

आँख नहीं है कोई स्वंय की ,
कोई स्वंय की खोज नहीं है
जो मनवाया, राज़ी उससे
अपनी कोई खोज नही है

चाबुक खाते, चले बैल से
खेत जोतते सारे बेटे
युगों -युगों से हारे बेटे !!

मूढों को सब द्रष्टव्य है
साफ़ -साफ़ कर्तव्य है
रोजी-रोटी, दाना-पानी
बीबी-बच्चे , साफ़ कहानी

घिसी-पिटी बातों में जीकर
जीवन रहे संवारे बेटे
युगों -युगों से हारे बेटे !!
दुनिया एक हड्डी का टुकड़ा
जिसको बाप लपकने दौड़ा
और न उसको छू पाया तब
बेटा आन बचाने छोड़ा

हाँफ़-हांफ कर दौड़ रहे हैं
कुत्तों जैसे सारे बेटे
युगों-युगों से हारे बेटे …!!

कोई क्रांति का भाव नहीं है
भीतर कोई आग नहीं
दुखिया-दीन मरें बला से
अपना कोई लगाव नहीं

मेरी बीबी, मेरे बच्चे
बस दुनिया में सबसे अच्छे
तेरे बेटे मरें बला से
मुझको अपने प्यारे बेटे
युगों-युगों से हारे बेटे …!!
दुनिया भी क्या बनिया है ये
देहों को उत्पाद बना
कौड़ियों के दाम ख़रीदे
सारी साँसें , और आत्मा

किन्तु माया की मुद्रा से
असली अपने प्राण गंवाकर
धन, पद से छोटे सौदों में
लाख टके की सांस बिकाकर

रद्दी दुनिया में कचरे से
फिंका गए किनारे बेटे
युगों-युगों से हारे बेटे …!!

सर पर काल कूट खड़ा पर
सर धरती में गाड़े बेटे
युगों-युगों से हारे बेटे …!!

 

bhārat ke ādamī kā jīvan ” mai, merī bībī, merā bachā ….bas !!!”

jaisā bāap, vaise hī lakīr ke fakīr beṭe bhī !!

— beṭe —

māa-bāp ke dulāre beṭe !
yugo-yugo se hāare beṭe !!
ahankār kī daudh daudhte
sansār ke bhār dabe se
jahā chalāyā, vahī chal diye
muhare jaise koī piṭe se

bhītar andhakār bharā par ,
jag ke āaj sitāre beṭe
yugo-yugo se hāare beṭe !!

jo bhī sikhāyā, sīkh liyā vaha
jahā chalāyā, vahī chale
ghar kī yā duniyā kī pakadi

khud kī rāah nahī chale

aankh nahī hai koī svayam kī ,
koī svayaṃy kī khoj nahī hai
jo manvāyā, rāzī uss se
apnī koī khoj nahī hai

chābuk khāte, chale bail se
khet jotate sāre beṭe
yugo -yugo se hāare beṭe !!

mūḍho ko sab draṣhṭavya hai
sāaf -sāaf kartavya hai
rojī-roṭī, dānā-pānī
bībī-bacche , sāaf kahānī

ghisī-piṭī bāato me zīkra
jīvan rahe sanvāre beṭe
yugo -yugo se haāre beṭe !!
duniyā ek haḍḍī kā ṭukadā
jisako bāap lapakne daudā
aur na usko chū pāyā tab
beṭā aān bachāne choḍā

haaf -hāaf kar daud rahe hai
kutto jaise sāare beṭe
yugo-yugo se hāre beṭe …!!

koī krānti kā bhāv nahī hai
bhītar koī āag nahī
dukhiyā-dīn mare balā se
apnā koī lagāa nahī

merī bībī, mere bachce
bas duniyā me sabse acche
tere beṭe mare balā se
mujhko apne pyāre beṭe
yugo-yugo se haāre beṭe …!!
duniyā bhī kyā baniyā hai ye
deho ko utpāad banā
kaudiyo ke dāam kharīde
sārī sāanse , aur aātmā

kintu māyā kī mudrā se
aslī apne prāan gavākar
dhan, pad se choṭe saudo me
lākh ṭake kī sāans bikākar

raddī duniyā me kachre se
phikā gaye kināre beṭe
yugo-yugo se haāre beṭe …!!

sar par kāal kūṭh khadā par
sar dhartī me gāde beṭe
yugo-yugo se haāre beṭe …!!

 

 

By – DrSalil Samadhia

Share the Goodness
Facebook
Twitter
LinkedIn
Telegram
WhatsApp
Choose from all-time favroits Poets

Join Brahma

Learn Sanatan the way it is!