भारत का आदमी एंटरटेनमेंट चाहता है !

भारत का आदमी एंटरटेनमेंट चाहता है !

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on telegram
Share on whatsapp

भारत का आदमी एंटरटेनमेंट चाहता है !
उसे डेवलपमेंट से मतलब नहीं है !
चाहे वह बाहरी डेवलपमेंट हो या भीतरी !
उसकी इंद्रियां रस चाहती हैं – उत्तेजक, रोमांचक रस ! विशेषकर मानसिक रस !
जैसे कुत्ता दिनभर बैठा हड्डी चबाता है, वैसे ही भारत का आदमी घंटों बैठा एंटरटेनमेंट चबाता है !!

वह न्यूज़ चबाता है, टेलीविज़न सीरियल चबाता है ! वेब सीरीज चबाता है !
वर्चुअल गेम्स और पोर्न चबाता है !
कुछ नहीं है तो वह गुटखा, सुपारी या पान चबाता है !
स्वाभाविक है, जो चबाता है वह थूकता भी है !
तो जिस तरह वह जगह-जगह गुटखा और पान थूकता है, उसी तरह वह हर जगह अपने चबाए विचार भी थूकता है !!
धर्म चबा लिया.. तो धर्म थूकता है !
ज्ञान चबा लिया..तो ज्ञान थूकता है !
विचारधारा चबा ली.. तो विचारधारा थूकता है !
ओशो चबा लिया तो.. ओशो थूकता है !
जग्गी चबा लिया तो.. जग्गी थूकता है !
रामायण चबा ली तो.. चौपाई थूकता है !
और अगर तब्लीग़ी चबा ली है, तो कोरोना थूकता है !

ख्याल रहे, थूकी वही चीज जाती है जो गुटकी नहीं जाती !!!
हम भोजन नहीं थूकते क्योंकि भोजन गुटक लिया जाता है ! भोजन पचा लिया जाता है !
पचा लेने से पोषण मिलता है, जो अंग लगता है!

हम लोग धर्म नहीं गुटकते, ज्ञान नहीं गुटकते !!
अगर गुटकते, तो वह पचता ! पचता तो अंग लगता, यानी चेतना को लगता !
किंतु चेतना का कोई पोषण तो कहीं दिखता नहीं ! वरना इतनी हिंसा, इतनी मारकाट, इतना वैमनस्य नही दिखता !
और दिमाग़ों में इतना जहर नहीं दिखता !!
हम लोग धर्म को सिर्फ चबाते हैं, गुटकते नही !
ज्ञान को सिर्फ चबाते हैं, फिर थूक देते हैं, गुटकते नहीं!
इसीलिए हमारी चेतना को कोई पोषण नहीं मिलता !

हमें सिर्फ स्वाद से मतलब है, पोषण से नहीं !
हमें ‘मज़ा’ से मतलब है, ‘ग़िज़ा’ से नही !!

हमारी इस आदत को सभी “उच्च धूर्त” भली तरह जानते हैं ! फिर वह धर्मगुरु हो, कि नेता हो, कि न्यूज़ चैनल !
इसीलिए न्यूज़ चैनल, न्यूज़ नहीं दिखाते, वह एंटरटेनमेंट दिखाते हैं !
हम तेजी से उस चैनल की बटन दबाते हैं जहां उत्तेजक बहस चल रही हो ! या सनसनीखेज न्यूज़ ‘चिल्लाई’ जा रही हो !
तमाम मीडिया हाउस और एंकर्स हमारी नब्ज पहचानते हैं !
वह थाली में वही डिश परोसते हैं, जिसे अधिक खाया जाएगा !

भारत में वही आदमी सफल है जो भारतीयों की इस चबाने की आदत को जानता हो !
..यहां वही नेता सफल है जो उसे चबाने के लिए एंटरटेनमेंट दे !
…वही धर्मगुरु सफल है जिसके आश्रम में “”एंटरटेनमेंट”” मौजूद हो !
..वही फिल्म सफल है जिसमें एंटरटेनमेंट हो !
यहां तक कि फेसबुक में भी, वही पोस्ट सफल है जिसमें एंटरटेनमेंट मौजूद हो !

पोस्ट मेकिंग भी एक तरह की फिल्म मेकिंग है !
आपकी पोस्ट अगर कमर्शियल मसाला मूवी की तरह है तो ही सफल होगी !
यानी उसे अधिक लाइक कॉमेंट्स मिलेंगे!
और अगर वह किसी डॉक्यूमेंट्री या आर्ट मूवी की तरह स्लो पोस्ट है.. तो उसे अधिक व्युवर्स
(लाइक -कॉमेंट्स) नहीं मिलेंगे !
यहां भी, जो भी राज कपूर की तरह शो-मैन है, वही सफल है !

एक फिल्म पैसा कमाने के लिए बनाई जाती है, एक फिल्म ‘आत्म संतोष’ के लिए बनाई जाती है !
कमर्शियल मूवी से कलाकार को पैसा तो मिल जाता है, आत्म संतोष नहीं मिलता !!
लिहाजा, आत्म संतोष के लिए वह कभी-कभार, एकाध मनमाफिक मूवी बना लेता है ! यह जानते हुए कि यह चलेगी नहीं !!

 

Sharing Is Karma

Share on facebook
Share
Share on twitter
Tweet
Share on linkedin
LinkedIn
Share on telegram
Telegram
Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on whatsapp

Lekh लेख

• 2 days ago
एकांत और अकेलेपन में बहुत अंतर है । दोनों एक जैसे लगते हैं, पर ऐसा है नहीं । एकांत और अकेलापन दोनों में हम अकेले...

Share now...

• 1 week ago
परमात्मा की बनाई इस सृष्टि को कई अर्थों में अदृभुत एवं विलक्षण कहा जा सकता है । एक विशेषता इस सृष्टि की यह है कि...

Share now...

• 1 week ago
 पर्यावरण से हमारा जीवन जुड़ा हुआ है और पर्यावरण में ही पंचतत्व ( पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु और आकाश) समाहित हैं, जिनसे मिलकर हमारा शरीर...

Share now...

• 1 week ago
वर्तमान दुनिया बहुत हल्के लोगों के हाथों में है ! हल्के लोग राष्ट्राध्यक्ष बने हुए हैं, हल्के लोग धर्माधीश.. !! हल्के लोगों के हाथों में...

Share now...

• 1 week ago
Today we have not yet recovered even a quarter of the deeper meaning of the Vedic mantras, much less find the Vedic mantras explained in...

Share now...

• 1 week ago
  व्यक्ति के जीवन में परिवार की भूमिका बहुत ही महत्त्वपूर्ण होती है । परिवार में रहकर ही व्यक्ति सेवा, सहकार, सहिष्णुता आदि मानवीय गुणों...

Share now...