भारत का आदमी एंटरटेनमेंट चाहता है !

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on telegram
Share on whatsapp

भारत का आदमी एंटरटेनमेंट चाहता है !
उसे डेवलपमेंट से मतलब नहीं है !
चाहे वह बाहरी डेवलपमेंट हो या भीतरी !
उसकी इंद्रियां रस चाहती हैं – उत्तेजक, रोमांचक रस ! विशेषकर मानसिक रस !
जैसे कुत्ता दिनभर बैठा हड्डी चबाता है, वैसे ही भारत का आदमी घंटों बैठा एंटरटेनमेंट चबाता है !!

वह न्यूज़ चबाता है, टेलीविज़न सीरियल चबाता है ! वेब सीरीज चबाता है !
वर्चुअल गेम्स और पोर्न चबाता है !
कुछ नहीं है तो वह गुटखा, सुपारी या पान चबाता है !
स्वाभाविक है, जो चबाता है वह थूकता भी है !
तो जिस तरह वह जगह-जगह गुटखा और पान थूकता है, उसी तरह वह हर जगह अपने चबाए विचार भी थूकता है !!
धर्म चबा लिया.. तो धर्म थूकता है !
ज्ञान चबा लिया..तो ज्ञान थूकता है !
विचारधारा चबा ली.. तो विचारधारा थूकता है !
ओशो चबा लिया तो.. ओशो थूकता है !
जग्गी चबा लिया तो.. जग्गी थूकता है !
रामायण चबा ली तो.. चौपाई थूकता है !
और अगर तब्लीग़ी चबा ली है, तो कोरोना थूकता है !

ख्याल रहे, थूकी वही चीज जाती है जो गुटकी नहीं जाती !!!
हम भोजन नहीं थूकते क्योंकि भोजन गुटक लिया जाता है ! भोजन पचा लिया जाता है !
पचा लेने से पोषण मिलता है, जो अंग लगता है!

हम लोग धर्म नहीं गुटकते, ज्ञान नहीं गुटकते !!
अगर गुटकते, तो वह पचता ! पचता तो अंग लगता, यानी चेतना को लगता !
किंतु चेतना का कोई पोषण तो कहीं दिखता नहीं ! वरना इतनी हिंसा, इतनी मारकाट, इतना वैमनस्य नही दिखता !
और दिमाग़ों में इतना जहर नहीं दिखता !!
हम लोग धर्म को सिर्फ चबाते हैं, गुटकते नही !
ज्ञान को सिर्फ चबाते हैं, फिर थूक देते हैं, गुटकते नहीं!
इसीलिए हमारी चेतना को कोई पोषण नहीं मिलता !

हमें सिर्फ स्वाद से मतलब है, पोषण से नहीं !
हमें ‘मज़ा’ से मतलब है, ‘ग़िज़ा’ से नही !!

हमारी इस आदत को सभी “उच्च धूर्त” भली तरह जानते हैं ! फिर वह धर्मगुरु हो, कि नेता हो, कि न्यूज़ चैनल !
इसीलिए न्यूज़ चैनल, न्यूज़ नहीं दिखाते, वह एंटरटेनमेंट दिखाते हैं !
हम तेजी से उस चैनल की बटन दबाते हैं जहां उत्तेजक बहस चल रही हो ! या सनसनीखेज न्यूज़ ‘चिल्लाई’ जा रही हो !
तमाम मीडिया हाउस और एंकर्स हमारी नब्ज पहचानते हैं !
वह थाली में वही डिश परोसते हैं, जिसे अधिक खाया जाएगा !

भारत में वही आदमी सफल है जो भारतीयों की इस चबाने की आदत को जानता हो !
..यहां वही नेता सफल है जो उसे चबाने के लिए एंटरटेनमेंट दे !
…वही धर्मगुरु सफल है जिसके आश्रम में “”एंटरटेनमेंट”” मौजूद हो !
..वही फिल्म सफल है जिसमें एंटरटेनमेंट हो !
यहां तक कि फेसबुक में भी, वही पोस्ट सफल है जिसमें एंटरटेनमेंट मौजूद हो !

पोस्ट मेकिंग भी एक तरह की फिल्म मेकिंग है !
आपकी पोस्ट अगर कमर्शियल मसाला मूवी की तरह है तो ही सफल होगी !
यानी उसे अधिक लाइक कॉमेंट्स मिलेंगे!
और अगर वह किसी डॉक्यूमेंट्री या आर्ट मूवी की तरह स्लो पोस्ट है.. तो उसे अधिक व्युवर्स
(लाइक -कॉमेंट्स) नहीं मिलेंगे !
यहां भी, जो भी राज कपूर की तरह शो-मैन है, वही सफल है !

एक फिल्म पैसा कमाने के लिए बनाई जाती है, एक फिल्म ‘आत्म संतोष’ के लिए बनाई जाती है !
कमर्शियल मूवी से कलाकार को पैसा तो मिल जाता है, आत्म संतोष नहीं मिलता !!
लिहाजा, आत्म संतोष के लिए वह कभी-कभार, एकाध मनमाफिक मूवी बना लेता है ! यह जानते हुए कि यह चलेगी नहीं !!

 

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on telegram
Telegram
Share on whatsapp
WhatsApp

Read More

Agni(The god of Fire)

AGNI, the god of Fire, is one of the most prominent of the deities of the Vedas. With the single exception of Indra, more hymns

Read More »
Salil Samadhia

आधा सत्य – आधा जीवन !!

मानव जीवन की अधिकतर समस्याओं का मूल है- ‘आधा जानना’ किंतु ‘पूरा मानना ‘ फिर चाहे वह धर्म की उद्घोषणा हो या दर्शन के प्रतिपादन,

Read More »
Brahma Logo Bhagwa