समझाइश की ज़रूरत बच्चों को नही, अभिभावकों को है !

 

“हमारे स्कूल में आईए और बच्चों को एक मोटिवेशनल लेक्चर दीजिए !”
बहुत से टीचर्स/प्रिंसिपल अक्सर ये आमंत्रण देते हैं !
मैं उनसे कहता हूं कि बात करने की ज़रूरत बच्चों से नही , बल्कि अभिभावकों से है !
और वो ये कि ,
बच्चों को लेक्चर देना बंद कीजिए !
आपके लेक्चर , आदेश और कमांड की ओवरडोज से बीमार हुए जा रहे हैं बच्चे !!
आपके ..उपदेशों का अतिरेक मितली पैदा कर रहा है उनमें !
यह अति उपदेश, विष बन कर उनकी चेतना को निस्पंद किए दे रहा है !!
हर शिक्षक बच्चे को ज्ञान बांट रहा है !
प्रत्येक रिलेटिव , माता-पिता, परिचित , मित्र ..जिसे देखो ..बच्चों को प्रवचन सुना रहा है !
..वो तॊ अच्छा है कि बच्चे हमें ध्यान से सुनते नही , और हमारे कहे को अनसुना कर देते है !
वर्ना अगर वह हमारे हर उपदेश पर विचार करने लगें , तॊ गंभीर मस्तिष्क रोग से पीड़ित हो सकते हैं !
हम जानते ही क्या हैं जो बच्चे को बता रहे हैं ??
ज़्यादातर पिता और शिक्षक बच्चों के सामने सख़्ती से पेश आते हैं !
उन्हें डर होता है कि कहीं बच्चा मुँह न लग जाए !
अपना नकली रूआब क़ायम रखने की वज़ह से वे , ज़िंदगी भर उन बच्चों के मित्र नही बन पाते !
वे सदैव एक उपदेशक और गुरु की तरह पेश आते हैं !
अच्छे-बुरे की स्ट्रॉन्ग कमांड, ब्लैक एंड व्हाईट की तरह उसके अवचेतन में ठूंस देते हैं !
यही कारण है कि थोड़ा बड़ा होने पर बच्चा ..अगर शराब पीता है ..तॊ उन्हें नही बताता !
वह सिगरेट पी ले, या किसी लड़की के प्रेम में पड़ जाए ..या अन्य किसी नए अनुभव से गुज़रा हो तॊ उनसे शेयर नही करता !
इस तरह बच्चे में एक दोहरा व्यक्तिव पैदा होता है !
हम इतना भय और दिखावा उसमें कूट-कूट कर भर देते हैं कि वयस्क होते-होते बच्चा अपना स्वतंत्र व्यक्तित्व खो बैठता है !
उसका कैरियर तॊ बन जाता है मगर व्यक्तित्व नही बन पाता !
हम सिर्फ उसके शरीर और सामाजिक व्यवहार को पोषित करते हैं , लेकिन आत्मिक स्तर पर उसके स्वतंत्र विकास की सारी संभावनाओं को मसल कर ख़त्म कर देते हैं !
दरअस्ल , हम सब असुरक्षित और डरे हुए लोग हैं !
हम उनके बाल मन पर अपनी मान्यताओं , परंपराओं और नियम क़ानून का ऐसा पक्का लेप लगा देते हैं कि बच्चे की सारी मौलिकता ही ख़त्म हो जाती है !
और वो जीवनभर अपनी आत्मा का मूल स्वर नही पकड़ पाता !!
हम निपट स्वार्थी मां-बाप , अपने बच्चों को अपने आहत अहं , अतृप्त कामनाओं और अधूरी महत्वाकांक्षाओं की पूर्ति का माध्यम बना लेते हैं !
और अंततः हमारा बच्चा एक आत्महीन किंतु मार्कशीट और डिग्रियों से सुसज्जित प्रोडक्ट बन जाता है ..जिसे सरकारी/प्राईवेट संस्थान ऊंची से ऊंची क़ीमत पर खरीद लेते हैं !!
नही , डरें नही !!
बच्चे को इतना बांधकर न रखें !
उसका अपना अलग जीवन है , उसे अपने अनुभव लेने दें !
उसे अपने जीवन की एक्सटेंशन कॉर्ड नही बनाएं !
उसे , उसकी निजता में खिलने दें !
उसे तेज धूप , आंधी , बारिश , सूखा …हर मौसम की मार से जूझने दें !
वर्ना उसका दाना पिलपिला और पोचा रह जाएगा !
उसमें प्रखरता और ओज का आविर्भाव नही होगा !
बच्चे को बुढ़ापे की लाठी ना समझें !
बुढ़ापे की लाठी अगर बनाना है तॊ “बोध” और “जागरण” को बनाएं !
क्योंकि पुत्र वाली लाठी तॊ आपसे पहले भी टूट सकती है !
और आप भी बूढ़े हुए बिना विदा हो सकते हैं !
इसलिए अपने बुढ़ापे की फ़िक्र न करें ,
अपने जागरण की फ़िक्र करें !!
अपने बच्चे पर बोझ न डालें बल्कि अपने “बोध” पर ज़ोर डालें !
बच्चे को समझाईश देने से पहले अपनी ‘अकड़’ और ‘पकड़’ को समझाइश दें !
सिर्फ बच्चा पैदा करने से आप ‘अभिभावक’ नही हो जाते ….और सिर्फ पढ़ाने से आप ‘अध्यापक’ नही हो जाते !
आपका निर्माण ही बच्चे का निर्माण है ..और आपका निदिध्यासन ही बच्चे का अध्यापन है !
समझाइश की ज़रूरत बच्चों को नही , अभिभावकों को है !
Comments
Sharing Is Karma
Share
Tweet
LinkedIn
Telegram
WhatsApp

know your dev(i)

!! Shlok, Mantra, Bhajan, Stories, temples all in one place !!

Join Brahma

Learn Sanatan the way it is!