ये दीपावली सनातन वाली !

ये दीपावली सनातन वाली !

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on telegram
Share on whatsapp

दीपावली प्रकाश पर्व है, ज्योति का महोत्सव है । दीपावली जितना अंत: लालित्य का उत्सव है, उतना ही बाह्यलालित्य का। जहाँ सदा उजाला हो, साहस पर भरोसा हो, निष्ठा भी हो, वहाँ उत्सव -ही -उत्सव होता है । उजाला सामूहिक रूप में प्रसारित होने से सर्वत्र सौंदर्य खिल जाता है । दीपों की पंक्तियाँ, ज्योति की निष्ठाएँ समाहित हो जाएं तो दीपावली की आभा अभिव्यक्त हो उठती है । दीपावली का लालित्य वस्तुत: प्रकाश एवं अँधेरे का मनोरम स्रमन्वय है । उसमें अप्रगामिता है । दीपावली में दीपों की पंक्तियाँ आखिर पर्व केसे बन जाती हैं ? पर्व का बृहत्तर तात्पर्य है- स्मृति के हजारों तार झनझना उठें, किंतु हम अपने वर्तमान को जीते रहें । यदि हम अपने वर्तमान में नहीं हैं और भविष्य के संग हमारा सम्यक भाव नहीं जुड़ा है तो वह पर्व नहीं विडंबना है, जिसकी लकीर हम पीटने में लगे हैं ।

दीपावली हमें उल्लास से भर देती है। दीपावली सौन्दर्य का अप्रतिम बिंब भी है, जहॉं मनुष्य की अनुभूति, अनुभव एवं संवेदना अपना आकार लेते हैं । दीपावली की ज्योति-प्रक्रिया, स्रोत एवं संरचना एक ऐसी सहृदयता एवं एकता पर आधारित है, जो सबको जोड़कर चलती है । दीयों में दो बातियॉं मिलती हैं । बाती स्नेहसिक्त होनी चाहिए । स्नेह के बिना प्रकाश की कल्पना भी संभव नहीं । वर्तमान समय जिस तरह से नकारात्मकता और संवेदनहीनता का ‘पर्याय’ बना हुआ है, उसमें स्नेह की और भी आवश्यकता है । स्नेह से ही पर्यावरण बनता है, उसी से वास्तविक कलात्मकता आती है । स्नेहरहित होने का अर्थ है- सौंदर्य का क्षरण । दीपावली सौंदर्य की महत्ता का पर्व है । अब भी सर्जनात्मकता, कला तत्व, मूल्य तथा कल्पना अर्थहीन शब्द नहीं हैं । यह पर्व अंधकार को सीमाओं का बृहत्तर अतिक्रमण करता है । दीपावली समाज व व्यक्ति के जीवन के अनगिनत आयामों को नया रूपांकन देती है । ऋषि संस्कृति में कठिनाइयों एवं संघर्षों के बावजूद उल्लास व उजास के रंग भरे पड़े हैं , जो कि देखते ही बनते हैं। ऐसे मौसम का आनंद उठाते हैं , जिसे सम कहा जा सकता है, न जहाँ गरमी और न सरदी । मिट्टी की कला के इतने सारे रूप इस समय देखने को मिलते हैं कि शायद साल भर न मिलते हों । भिन्न-भिन्न तरह के दीये , हाथी, घोडे, पेड़-पौधे ये सभी कुछ मिट्टी की कला से ही निर्मित होते हैं । हमारे यहाँ इन कलाओं को संरक्षित किए जाने की जरूरत है । फाइबर, प्लास्टिक, चीनी मिट्टी आदि के दौर में मिट्टी की कला सहेजी जानी चाहिए । वह सब कुछ सहेजना चाहिए जो हमें कलात्मक रूप से समृद्धि, वैभव, प्रतिभावान बनाता है , उसे बचाकर रखने की आवश्यकता है ।

समाज के सभी वर्ग किसान इत्यादि दीपावली को नई अभिव्यंजना देते हैं । दीपावली के वैभव से किसान का वैभव रचा जाना चाहिए । किसान के वैभव मे ही दीपावली का वैभव छिपा हुआ है । कृषि को राष्ट्रगेय समृद्धि का आधार बनाने की जरूरत है । निम्न व मध्य वर्ग को भी केवल ‘ रियायत ‘ के बल पर लंबे समय तक नहीं चलाया जा सकता, उसे नईं नीति बनाकर आत्मनिर्भर बनाया जाना चाहिए । आजीविका की खोज में दौड़ रहे युवाओ को यदि हम स्वावलंबी बना सकें तो यह एक बड़ा कार्य होगा । धर्मों, जातियों, लिंगों, प्रांतों एवं भाषाओँ की दीवारों को तोड़कर एक ऐसा सामंजस्यपूर्ण विकास चाहिए जो गत्यात्मक भी हो और विवेक से परिपूर्ण भी । विनाश के तट पर विकास सम्भव नहीं है । केवल गाँव या केवल शहर की अतिवादी सोच उचित नहीं है । विकसित गांव एवं शहर ही हमारे लिए नूतन भविष्य की रचना रच सकते हैं । शहर तो हमें चाहिए परंतु वे जो मानवीय सबंधों को बनाए रख सकें । नगरीकरण की प्रक्रिया एवं औद्योगीकरण के लिए यह एक बडी चुनौती है । वास्तव में दीपावली प्रकाश पर्व है, इस प्रकाश में सभी समस्याएँ समाप्त होनी चाहिए ।

ये दीपावली सनातन वाली !

Join the Deepawali Celebrations

दीपावली के महोत्सव में हमें ऐसे सभी बिंदुओ का पूर्ण मूल्यांकन करने की आवश्यकता है । नई आभा नहीं रची जा सके और यदि बड़े परिवर्तन न संभव हो सकें तो छोटे -छोटे बदलाव लाने चाहिए जो सृजन की दीपावली ला सकते हैं । अतीत के खंडहर से ही अब नई दुनिया सृजित होगी । भारत का पुनरुत्थान यहीं से करना होगा । वर्तमान में ‘राजनीति’ का अर्थ सिर्फ राज पाने के लिए बनी नीति से है , परंतु जो सृज़नता के सापेक्ष नीति होगी वही समाज, राज एवं व्यक्ति को सकारात्मक रूप से जोड़ सकेगी।

दीपावली ऐसे सभी अर्थों की तहों में जाने का दुस्साध्य प्रयत्न है । किसी भी सृजनात्मकता में प्रकाश के अनगिनत रंग होते हैं । दीपावली एक लालित्यपूर्ण सृजनात्मकता है। उजाले की निजता दीपावली को प्रश्नय देती है । उजाले की प्रसारणशीलता उसके सामाजिक पक्ष को नया आयाम देती है। दीपावली परिवर्तन, सौंदर्य, निजता, स्वायत्तता एवं ज्योति, समन्वयन-ये सब एक साथ स्थापित करती है । यह लघुता को सम्मान देती है । छोटा दीया भी यहाँ महत्त्वपूर्ण बन जाता है । यही हमारे सनातन संस्कृति की पहचान है।

दीपावली हमें संकीर्णता, संवादहीनता एवं विद्वेष को भावनाओं को तिरोहित करना सिखाती है । इस प्रकार सोचने से ही हमें दीपावली के वास्तविक मर्म का बोध होगा । दीपावली हमारे भीतर के सृजन को ऊर्जा एवं आभा देती है। सृजन की फुलझडियाँ ही जीवन को नूतन बनाती हैं । इसमें जितनी परंपराओं की सुरक्षा है, सांस्कृतिक परिवर्त्तन है, उतनी ही गतिशीलता का समन्वय भी है । राष्ट्रीयता को अंतर्राष्ट्रीयता एवं क्षेत्रीयता से समन्वित होकर चलना ही उचित है । यदि दृष्टिकोण सकारात्मक हो तो अतीत आधारहीन नहीं होगा, इतिहास संदर्भ मात्र नहीं लगेगा और संस्कृति केवल मिथक नहीं लगेंगी । दीपावली बहुलता का प्रतिरूप है, जिसमें हर दीया सृजन का प्रतीक है । हमें दीपावली में अपने अंदर सृजन के दीये को जलाना चाहिए, जिससे हम स्वयं प्रकाशित हो सकें और राष्ट्र को प्रक्राशपथ पर अग्रासित कर सकें।

 

Join the Deepawali Celebrations

 

Sharing Is Karma

Share on facebook
Share
Share on twitter
Tweet
Share on linkedin
LinkedIn
Share on telegram
Telegram
Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on whatsapp

Lekh लेख

• 16 hours ago
इस संसार में असंख्य व्यक्ति ऐसे हैं जो साधन संपन्न होने पर भी चिंतित और उद्विग्न दिखाई देते हैं । यदि गहराई से देखा जाए...

Share now...

• 1 week ago
The Vedas however are not as well known for pre-senting historical and scientific knowledge as they are for expounding subtle sciences, such as the power...

Share now...

• 3 weeks ago
चिंता व तनाव हमारे लिए फायदेमंद भी हैं और नुकसानदेह भी । किसी भी कार्य के प्रति चिंता व तनाव का होना, हमारे मन में...

Share now...

• 3 weeks ago
Naturally the law of Karma leads to the question– ‘What part does Isvara (God) play in this doctrine of Karma’ ? The answer is that...

Share now...

• 4 weeks ago
Earlier, it was said that in India philosophy itself was regarded as a value and also that value and human life are inextricably blended. What...

Share now...

• 4 weeks ago
It can be scientifically proven that the Vedic Culture is indigenous, through the study of cultural continuity, archaeology, linguistic analysis, and genetic research. For example,...

Share now...