Articlesब्रह्मलेख

• 2 weeks ago
इस सप्ताहांत अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष की प्रबंध निदेशिका – क्रिस्टीना जॉर्जीवा – का इंटरव्यू पढ़ रहा था। जॉर्जीवा बुल्गारिया की नागरिक है। साम्यवादी बुल्गारिया में...

Share now...

• 3 months ago
भारत का आदमी एंटरटेनमेंट चाहता है ! उसे डेवलपमेंट से मतलब नहीं है ! चाहे वह बाहरी डेवलपमेंट हो या भीतरी ! उसकी इंद्रियां रस...

Share now...

• 4 months ago
हनुमान को श्राप था कि वे अपनी शक्ति भूल जाएं जिसके बाद वे सामान्य जीवन जीने लगे थे! उन्हें, उनके शौर्य के पुराने प्रसंग याद...

Share now...

Shlokaब्रह्माश्लोक

No data was found
• 2 months ago
मैं अखिल विश्व का गुरू महान, देता विद्या का अमर दान, मैंने दिखलाया मुक्ति मार्ग मैंने सिखलाया ब्रह्म ज्ञान। मेरे वेदों का ज्ञान अमर, मेरे...

Share now...

• 2 months ago
भारत जमीन का टुकड़ा नहीं, जीता जागता राष्ट्रपुरुष है। हिमालय मस्तक है, कश्मीर किरीट है, पंजाब और बंगाल दो विशाल कंधे हैं। पूर्वी और पश्चिमी...

Share now...

• 2 months ago
बढ़ते जाते देखो हम बढ़ते ही जाते॥ उज्वलतर उज्वलतम होती है महासंगठन की ज्वाला प्रतिपल बढ़ती ही जाती है चंडी के मुंडों की माला यह...

Share now...

• 2 months ago
एक नहीं दो नहीं करो बीसों समझौते, पर स्वतन्त्र भारत का मस्तक नहीं झुकेगा। अगणित बलिदानो से अर्जित यह स्वतन्त्रता, अश्रु स्वेद शोणित से सिंचित...

Share now...