Mrityu

Mrityu

Articlesब्रह्मलेख

No data was found

Shlokaब्रह्माश्लोक

No data was found
• 3 months ago
ठन गई! मौत से ठन गई! जूझने का मेरा इरादा न था, मोड़ पर मिलेंगे इसका वादा न था। रास्ता रोक कर वह खड़ी हो...

Share now...

• 3 months ago
मैंने जन्म नहीं मांगा था, किन्तु मरण की मांग करुँगा। जाने कितनी बार जिया हूँ, जाने कितनी बार मरा हूँ। जन्म मरण के फेरे से...

Share now...