Parivartan

Parivartan

Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on whatsapp

Articles on Parivartan

• 3 weeks ago
“PLANT A MEMORY, PLANT A TREE, DO IT TODAY FOR TOMORROW” Nothing compares to the joy and grandeur of Diwali...
• 3 weeks ago
Diwali is a season of happiness, joy and fun. People meet each other; take blessings from elders. That’s why it...
• 3 weeks ago
What are your plans for this coming Diwali? Will your coming Diwali be ECO-PATAKE wali? Diwali is the most anticipated...
• 5 months ago
My understanding of philosophic writings being very scanty, I may be false when I indicate that this is just a...
• 12 months ago
दीपावली प्रकाश पर्व है, ज्योति का महोत्सव है । दीपावली जितना अंत: लालित्य का उत्सव है, उतना ही बाह्यलालित्य का।...
• 12 months ago
Naturally the law of Karma leads to the question– ‘What part does Isvara (God) play in this doctrine of Karma’...
• 12 months ago
It can be scientifically proven that the Vedic Culture is indigenous, through the study of cultural continuity, archaeology, linguistic analysis,...
• 12 months ago
परमात्मा की बनाई इस सृष्टि को कई अर्थों में अदृभुत एवं विलक्षण कहा जा सकता है । एक विशेषता इस...
• 1 year ago
पर्यावरण से हमारा जीवन जुड़ा हुआ है और पर्यावरण में ही पंचतत्व ( पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु और आकाश) समाहित...
• 1 year ago
Today we have not yet recovered even a quarter of the deeper meaning of the Vedic mantras, much less find...
• 1 year ago
  व्यक्ति के जीवन में परिवार की भूमिका बहुत ही महत्त्वपूर्ण होती है । परिवार में रहकर ही व्यक्ति सेवा,...
• 1 year ago
कुछ वर्षों पहले एक ब्रिटिश पर्यटक ने गुरुग्राम की कुछ शानदार तस्वीरें शेयर करते हुए लिखा था विश्वास नही होता...
• 1 year ago
इस सप्ताहांत अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष की प्रबंध निदेशिका – क्रिस्टीना जॉर्जीवा – का इंटरव्यू पढ़ रहा था। जॉर्जीवा बुल्गारिया की...
• 1 year ago
हमारे एक मित्र हैं । पारंपरिक बिजनिसमैन हैं ……. आजकल दिन रात Online कंपनियों को गरियाते हैं । कहते हैं...
• 1 year ago
कोई डर नहीं, कोई फिकर नहीं! नियतं कुरु कर्म त्वं कर्म ज्यायो ह्यकर्मणः।  शरीरयात्रापि च ते न प्रसिद्ध्येदकर्मणः।। 3.8 श्रीमद्भवगद्गीता।...
• 1 year ago
मंडी परिषद बाजार राजनीति, भ्रष्टाचार, व्यापारियों और बिचौलिए के एकाधिकार का अखाड़ा हो गया है। देश भर में मंडी परिषद...
Popular Categories

Dharma

Hindu

Jain

Baudh

Sikh

Aham

Ayurved

Bharat

Brahmaand

Kala

Trending Mentions