Vigyan

Vigyan

Articlesब्रह्मलेख

• 4 months ago
क्या ऐसी आध्यात्मिक क्रांति संभव है, जिसमें बच्चा-बच्चा ’‘अहं ब्रह्मास्मि’ (मैं ब्रह्म हूँ) का जयघोष कर उठे ? जहाँ प्रत्येक मनुष्य ’’‘तत्त्वमसि’ (तुम भी वही...

Share now...

• 7 months ago
मूर्ति और मंदिर। इन दोनों ने ही हिन्दू धर्म का मौजूदा स्वरूप गढ़ा है। इसमें शूद्र वर्ण और वैश्य वर्ण का योगदान सर्वाधिक है। इसके...

Share now...

Shlokaब्रह्माश्लोक