अव्यक्तोऽयमचिन्तयोऽयमविकार्योऽयमुच्यते।
तस्मादेवं विदित्वेनं नानुशोचितुमर्हसि।।

Avyaktoyam achintyoyam avikaaryoyam uchyate;
Tasmaad evam viditwainam Nannushochitum arhasi.

यह आत्मा अव्यक्त है,यह आत्मा अचिन्त्य है और यह आत्मा विकाररहित कहा जाता है ।इससे हे अर्जुन !इस आत्मा को उपर्युक्त प्रकारसे जानकर तु शोक करने के योग्य नहीं है अर्थात् तुझे शोक करना उचित नहीं है।

Share this Shlok
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on telegram

Trending Shloka

Latest Shloka in our Sangrah

A futuristic Library of Bhartiye Wisdom.

Brahma is building the biggest open-source collection of eternal Bhartiye Gyan in all forms. If you are enlightened do join our team of change-makers.

Shrimad Bhagavad Gita

अव्यक्तोऽयमचिन्तयोऽयमविकार्योऽयमुच्यते।
तस्मादेवं विदित्वेनं नानुशोचितुमर्हसि।।

Avyaktoyam achintyoyam avikaaryoyam uchyate;
Tasmaad evam viditwainam Nannushochitum arhasi.

यह आत्मा अव्यक्त है,यह आत्मा अचिन्त्य है और यह आत्मा विकाररहित कहा जाता है ।इससे हे अर्जुन !इस आत्मा को उपर्युक्त प्रकारसे जानकर तु शोक करने के योग्य नहीं है अर्थात् तुझे शोक करना उचित नहीं है।

@beLikeBrahma