वन्दे वाञ्छितलाभाय चन्द्रार्धकृतशेखराम्।
वृषारुढां शूलधरां शैलपुत्रीं यशस्विनीम्॥

vande vāñchitalābhāya candrārdhakṛtaśekharām|
vṛṣāruḍhāṃ śūladharāṃ śailaputrīṃ yaśasvinīm||

देवी वृषभ पर विराजित हैं। शैलपुत्री के दाहिने हाथ में त्रिशूल है और बाएं हाथ में कमल पुष्प सुशोभित है। यही नवदुर्गाओं में प्रथम दुर्गा है। नवरात्रि के प्रथम दिन देवी उपासना के अंतर्गत शैलपुत्री का पूजन करना चाहिए।

I worship Goddess Shailputri to fulfil my wishes, who is adorned with a half-moon on her head, rides on a bull, carrying a trident and is illustrious.

Share this Shlok
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on telegram

Trending Shloka

Latest Shloka in our Sangrah

A futuristic Library of Bhartiye Wisdom.

Brahma is building the biggest open-source collection of eternal Bhartiye Gyan in all forms. If you are enlightened do join our team of change-makers.

वन्दे वाञ्छितलाभाय चन्द्रार्धकृतशेखराम्।
वृषारुढां शूलधरां शैलपुत्रीं यशस्विनीम्॥

vande vāñchitalābhāya candrārdhakṛtaśekharām|
vṛṣāruḍhāṃ śūladharāṃ śailaputrīṃ yaśasvinīm||

देवी वृषभ पर विराजित हैं। शैलपुत्री के दाहिने हाथ में त्रिशूल है और बाएं हाथ में कमल पुष्प सुशोभित है। यही नवदुर्गाओं में प्रथम दुर्गा है। नवरात्रि के प्रथम दिन देवी उपासना के अंतर्गत शैलपुत्री का पूजन करना चाहिए।
I worship Goddess Shailputri to fulfil my wishes, who is adorned with a half-moon on her head, rides on a bull, carrying a trident and is illustrious.

@beLikeBrahma