Ram

Ram

Share on facebook
Share on twitter
Share on telegram
Share on whatsapp

आए हैं प्रभु श्री राम

आए हैं प्रभु श्री राम, भरत फूले ना समाते हैं। तन पुलकित मुख बोल ना आए, प्रभु पद कमल रहे हिए लाये। भूमि पड़े हैं

Read  ➜

आन मिलो मोहे राम

आन मिलो मोहे राम, राम मेरे। मन व्याकुल है, तन बेसुध है, अँखिओं में आ गए प्राण॥ तुम तो दुःख में छोड़ गए हो, तोड़

Read  ➜

ऐसे हैं मेरे राम

ऐसे हैं मेरे राम, ऐसे हैं मेरे राम, विनय भरा ह्रदय करे सदा जिन्हें प्रणाम। ह्रदय कमल, नयन कमल, सुमुख कमल, चरण कमल, कमल के

Read  ➜

रोम रोम में बसनेवाले राम

हे रोम रोम में बसनेवाले राम जगत के स्वामी, हे अंतर्यामी, मैं तुझसे क्या माँगू आस का बंधन तोड़ चूकी हूँ तुझपर सबकुछ छोड़ चूकी

Read  ➜

राम अपनी कृपा से

राम अपनी कृपा से राम अपनी कृपा से मुझे भक्ति दे . राम अपनी कृपा से मुझे शक्ति दे .. नाम जपता रहूँ काम करता

Read  ➜

ठुमक चलत रामचंद्र

ठुमक चलत रामचंद्र ठुमक चलत रामचंद्र बाजत पैंजनियां .. किलकि किलकि उठत धाय गिरत भूमि लटपटाय . धाय मात गोद लेत दशरथ की रनियां ..

Read  ➜

मंगल भवन अमंगल हारी

मंगल भवन अमंगल हारी द्रवहु सुदसरथ अचर बिहारी राम सिया राम सिया राम जय जय राम – २ हो, होइहै वही जो राम रचि राखा

Read  ➜

भये प्रगट कृपाला दीनदयाला

भये प्रगट कृपाला दीनदयाला कौसल्या हितकारी . हरषित महतारी मुनि मन हारी अद्भुत रूप बिचारी .. लोचन अभिरामा तनु घनस्यामा निज आयुध भुज चारी .

Read  ➜

श्री रामचन्द्र कृपालु

श्रीरामचन्द्र कृपालु भजु मन हरण भवभय दारुणम् . नवकञ्ज लोचन कञ्ज मुखकर कञ्जपद कञ्जारुणम् .. १.. कंदर्प अगणित अमित छबि नव नील नीरज सुन्दरम् .

Read  ➜