सृष्टिस्थितिविनाशानां शक्तिभूते सनातनि ।
गुणाश्रये गुणमये नारायणि नमोऽस्तु ते ॥

sṛṣṭisthitivināśānāṃ śaktibhūte sanātani |
guṇāśraye guṇamaye nārāyaṇi namo’stu te ||

0
0

हे माता ! तुम सृष्टि, पालन और संहार की शक्ति भूता, सनातन काल से देवों को जन्म देने वाली देवी, इस ब्रह्मांड और पृथ्वी पर सभी गुणों का आधार तथा स्वयं भी सर्वगुणमयी हो । हे मां नारायणी! तुम्हे नमस्कार है ।

Share this Shlok
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on telegram

Trending Shloka

Latest Shloka in our Sangrah