...
Background

aba mai jani deha bu ha ani

0
0

Change Bhasha

अब मैं जानी देह बुढ़ानी । सीस, पाउँ, कर कह्यौ न मानत, तन की दसा सिरानी। आन कहत, आनै कहि आवत, नैन-नाक बहै पानी। मिटि गई चमक-दमक अँग-अँग की, मति अरु दृष्टि हिरानी। नाहिं रही कछु सुधि तन-मन की, भई जु बात बिरानी। सूरदास अब होत बिगूचनि, भजि लै सारँगपानी

Buy Latest Products

Built in Kashi for the World

ॐ सर्वे भवन्तु सुखिनः