...
Background

badana manohara gata

0
0

Change Bhasha

बदन मनोहर गात सखी री कौन तुम्हारे जात। राजिव नैन धनुष कर लीन्हे बदन मनोहर गात॥ लज्जित होहिं पुरबधू पूछैं अंग अंग मुसकात। अति मृदु चरन पंथ बन बिहरत सुनियत अद्भुत बात॥ सुंदर तन सुकुमार दोउ जन सूर किरिन कुम्हलात। देखि मनोहर तीनौं मूरति त्रिबिध ताप तन जात॥

Buy Latest Products

Built in Kashi for the World

ॐ सर्वे भवन्तु सुखिनः