brah.ma Logoपरिवर्तनं भव

Loading...

Background

mo sama kauna kutila khala kami

0
0

Change Bhasha

मो सम कौन कुटिल खल कामी। जेहिं तनु दियौ ताहिं बिसरायौ, ऐसौ नोनहरामी॥ भरि भरि उदर विषय कों धावौं, जैसे सूकर ग्रामी। हरिजन छांड़ि हरी-विमुखन की निसदिन करत गुलामी॥ पापी कौन बड़ो है मोतें, सब पतितन में नामी। सूर, पतित कों ठौर कहां है, सुनिए श्रीपति स्वामी॥

Buy Latest Products

Built in Kashi for the World

ॐ सर्वे भवन्तु सुखिनः