...
Background

sakala sukha ke karana

0
0

Change Bhasha

सकल सुख के कारन भजि मन नंद नंदन चरन। परम पंकज अति मनोहर सकल सुख के करन॥ सनक संकर ध्यान धारत निगम आगम बरन। सेस सारद रिषय नारद संत चिंतन सरन॥ पद-पराग प्रताप दुर्लभ रमा कौ हित करन। परसि गंगा भई पावन तिहूं पुर धन घरन॥ चित्त चिंतन करत जग अघ हरत तारन तरन। गए तरि लै नाम केते पतित हरि-पुर धरन॥ जासु पद रज परस गौतम नारि गति उद्धरन। जासु महिमा प्रगति केवट धोइ पग सिर धरन॥ कृष्न पद मकरंद पावन और नहिं सरबरन। सूर भजि चरनार बिंदनि मिटै जीवन मरन॥

Buy Latest Products

Built in Kashi for the World

ॐ सर्वे भवन्तु सुखिनः