...
Background

tabtem bahuri na kou aayo

0
0

Change Bhasha

तबतें बहुरि न कोऊ आयौ। वहै जु एक बेर ऊधो सों कछुक संदेसों पायौ॥ छिन-छिन सुरति करत जदुपति की परत न मन समुझायौ। गोकुलनाथ हमारे हित लगि द्वै आखर न पठायौ॥ यहै बिचार करहु धौं सजनी इतौ गहरू क्यों लायौ। सूर, स्याम अब बेगि मिलौ किन मेघनि अंबर छायौ॥

Buy Latest Products

Built in Kashi for the World

ॐ सर्वे भवन्तु सुखिनः