brah.ma Logoपरिवर्तनं भव

Loading...

Background

udho, hohu iham taim nyare

0
0

Change Bhasha

ऊधो, होहु इहां तैं न्यारे। तुमहिं देखि तन अधिक तपत है, अरु नयननि के तारे॥ अपनो जोग सैंति किन राखत, इहां देत कत डारे। तुम्हरे हित अपने मुख करिहैं, मीठे तें नहिं खारे॥ हम गिरिधर के नाम गुननि बस, और काहि उर धारे। सूरदास, हम सबै एकमत तुम सब खोटे कारे॥

Buy Latest Products

Built in Kashi for the World

ॐ सर्वे भवन्तु सुखिनः