...
Background

Chauraste ki jindagi

Jankivallabh Shastri

0
0

Change Bhasha

मैली-मैली चान्दनी, चन्दा मुखड़ा फीका,
ऐसा काग़ज़ फैला जैसे हो कलंक-टीका।

आंसुओं टँके सपने तोरण उजड़े नीड़ के,
झेल अकेलापन मन ठिठका सम्मुख भीड़ के,
छुट्टे हाथ, कहाँ पर, इससे - छुटकारा जी का,

दिल पर पड़ती चोट ठनकता माथा मिट्टी का।
मैली-मैली चान्दनी, चन्दा मुखड़ा फीका,
ऐसा काग़ज़ फैला जैसे हो कलंक-टीका।

चौरस्ते की ज़िन्दगी कुछ धूल-पसीने की,
साधों की सुध सांसों में जकड़न-सी सीने की,
फूल भटकटैया का, पात कँटीली डाली का,

ज्यों मसान में मगन, नहीं हमसाया माली का।
मैली-मैली चान्दनी, चन्दा मुखड़ा फीका,
ऐसा काग़ज़ फैला जैसे हो कलंक-टीका।

Buy Latest Products

Built in Kashi for the World

ॐ सर्वे भवन्तु सुखिनः