...
Background

Hone lagi hai jism me jumbish to dekhiye

Dushyant Kumar

0
0

Change Bhasha

होने लगी है जिस्म में जुंबिश तो देखिये

इस पर कटे परिंदे की कोशिश तो देखिये

गूँगे निकल पड़े हैं, ज़ुबाँ की तलाश में

सरकार के ख़िलाफ़ ये साज़िश तो देखिये

बरसात आ गई तो दरकने लगी ज़मीन

सूखा मचा रही है ये बारिश तो देखिये

उनकी अपील है कि उन्हें हम मदद करें

चाकू की पसलियों से गुज़ारिश तो देखिये

जिसने नज़र उठाई वही शख़्स गुम हुआ

इस जिस्म के तिलिस्म की बंदिश तो देखिये

 

Buy Latest Products

Built in Kashi for the World

ॐ सर्वे भवन्तु सुखिनः