...
Background

Jaane kis kiska khyal aaya hai

Dushyant Kumar

0
0

Change Bhasha

जाने किस—किसका ख़्याल आया है

इस समंदर में उबाल आया है

एक बच्चा था हवा का झोंका

साफ़ पानी को खंगाल आया है

एक ढेला तो वहीं अटका था

एक तू और उछाल आया है

कल तो निकला था बहुत सज—धज के

आज लौटा तो निढाल आया है

ये नज़र है कि कोई मौसम है

ये सबा है कि वबाल आया है

इस अँधेरे में दिया रखना था

तू उजाले में बाल आया है

हमने सोचा था जवाब आएगा

एक बेहूदा सवाल आया है

Buy Latest Products

Built in Kashi for the World

ॐ सर्वे भवन्तु सुखिनः