...
Background

Madhur badal

Makhanlal Chaturvedi

0
0

Change Bhasha

मधुर ! बादल, और बादल, और बादल आ रहे हैं
और संदेशा तुम्हारा बह उठा है, ला रहे हैं।।

गरज में पुस्र्षार्थ उठता, बरस में कस्र्णा उतरती
उग उठी हरीतिमा क्षण-क्षण नया श्रृङ्गर करती
बूँद-बूँद मचल उठी हैं, कृषक-बाल लुभा रहे हैं।।
नेह! संदेशा तुम्हारा बह उठा है, ला रहे हैं।।

तड़ित की तह में समायी मूर्ति दृग झपका उठी है
तार-तार कि धार तेरी, बोल जी के गा उठी हैं
पंथियों से, पंछियों से नीड़ के स्र्ख जा रहे हैं
मधुर! बादल, और बादल, और बादल आ रहे हैं।।

झाड़ियों का झूमना, तस्र्-वल्लरी का लहलहाना
द्रवित मिलने के इशारे, सजल छुपने का बहाना।
तुम नहीं आये, न आवो, छवि तुम्हारी ला रहे हैं।।
मधुर! बादल, और बादल, और बादल छा रहे हैं,

और संदेशा तुम्हारा बह उठा है, ला रहे हैं।।

Buy Latest Products

Built in Kashi for the World

ॐ सर्वे भवन्तु सुखिनः