brah.ma Logoपरिवर्तनं भव

Loading...

Background

Phir kar lene do pyaar priye

Dushyant Kumar

0
0

Change Bhasha

अब अंतर में अवसाद नहीं
चापल्य नहीं उन्माद नहीं
सूना-सूना सा जीवन है
कुछ शोक नहीं आल्हाद नहीं

तव स्वागत हित हिलता रहता
अंतरवीणा का तार प्रिये ..

इच्छाएँ मुझको लूट चुकी
आशाएं मुझसे छूट चुकी
सुख की सुन्दर-सुन्दर लड़ियाँ
मेरे हाथों से टूट चुकी

खो बैठा अपने हाथों ही
मैं अपना कोष अपार प्रिये
फिर कर लेने दो प्यार प्रिये ..

Buy Latest Products

Built in Kashi for the World

ॐ सर्वे भवन्तु सुखिनः