...
Background

Saathi so na kar kuch baat

Harivansh Rai Bachchan

0
0

Change Bhasha

साथी सो न कर कुछ बात।

पूर्ण कर दे वह कहानी,
जो शुरू की थी सुनानी,
आदि जिसका हर निशा में,
अन्त चिर अज्ञात
साथी सो न कर कुछ बात।

बात करते सो गया तू,
स्वप्न में फिर खो गया तू,
रह गया मैं और
आधी रात आधी बात
साथी सो न कर कुछ बात।

Buy Latest Products

Built in Kashi for the World

ॐ सर्वे भवन्तु सुखिनः