...
Background

To jaanu

Jankivallabh Shastri

0
0

Change Bhasha

तीखे काँटों को
फूलों का शृंगार बना दो तो जानूँ।

वीरान ज़िन्दगी की ख़ातिर
कोई न कभी मरता होगा,
तपती सांसों के लिए नहीं
यौवन-मरु तप करता होगा,
फैली-फैली यह रेत।
ज़िन्दगी है या निर्मल उज्ज्वलता?
निर्जल उज्ज्वलता को जलधर,
जलधार बना दो तॊ जानूँ।

मैं छाँह-छाँह चलता आया
अकलुष प्रकाश की आशा में,
गुमसुम-गुमसुम जलता आया :
उजलूँ तो लौ की भाषा में।
औंधा आकाश टँगा सर पर,
डाला पड़ाव सन्नाटे ने,
ठहरे गहरे सन्नाटे को
झंँकार बना दो तो जानूँ।

Buy Latest Products

Built in Kashi for the World

ॐ सर्वे भवन्तु सुखिनः